Home Knowledge इस जमीन पर सबसे ताकत वाली चीज कौन सी है।

इस जमीन पर सबसे ताकत वाली चीज कौन सी है।

0

इस जमीन पर सबसे ताकत वाली चीज कौन सी है।

इस जमीन पर सबसे ताकत वाली चीज कौन सी है। हजरत इमाम अली रज़ी अल्लाह ताला अनहो की खिदमत में एक शख्स आया। और अर्ज़ करने लगा या अली इस जमीन पर सबसे ताकत वाली चीज कौन सी है।

तो आप ने फरमाया इस जमीन पर सबसे ताकत वाली चीज यकीन है। इंसान यकीन रख्खे तो कुदरत की नेमत उस यकीन के सामने झुक जाती है।

फिर उस शख्स ने कहा या अली सबसे बड़ी इबादत कौन सी है। तो इमाम अली रज़ी अल्लाह ताला अनहो ने फरमाया। सबसे बड़ी इबादत किसी मजबूर की मदद करना है। किसी गरीब को बगैर किसी मतलब के उसे सीने से लगाना है।इस जमीन पर सबसे ताकत वाली चीज कौन सी है। 

फिर उसने कहा या अली ,अल्लाह सबसे ज्यादा खुश कब होता है। तो इमाम अली रज़ी अल्लाह ताला अनहो ने फरमाया। जब कोई अल्लाह का बंदा अल्लाह की नेमत पर खुश होता है।तो अल्लाह ताला उस बंदे से सबसे ज्यादा खुश होता है।
जब कोई अल्लाह का बंदा अल्लाह की रीज़ा पर राज़ी रहता है।तो अल्लाह उस बंदे को देखकर सबसे ज्यादा खुश होता है।

हजरत इमाम अली रज़ी आल्लाहु ताला अनहो की खिदमत में एक मुशरीक आया। और कहने लगा या अली आप कहते हैं अल्लाह किसी पर ज़ुल्म नहीं करता। और आप फरमाते हैं कि क़यामत के दिन सब चीज खत्म हो जाएगी।इस जमीन पर सबसे ताकत वाली चीज कौन सी है। 

यह दुनिया खत्म हो जाएगी। क्या ये जुल्म नहीं। बस यह कहना था कि इमाम अली रजि अल्लाह ताला अनहो ने फरमाया। ऐ शख्स ये दुनिया अल्लाह खत्म नहीं करेगा।

बल्कि इंसान के अंदर के लालच इंसानों से खत्म करवाएगी। उसने कहा या अली वह कैसे, तो इमाम अली रज़ी अल्लाह ताला अनहो ने फरमाया।

अल्लाह ने जमीन पर आदम को भेजा बगैर किसी सनद के, इस जमीन पर तमाम इंसानों का हक बराबर बराबर है। कोई जमीन किसी की नहीं ,यह जमीन अल्लाह की है।

लेकिन अफ़सोस कुछ लोग इस जमीन के मूखतलीफ हीस्सो पर कब्जा करेंगे। इस जमीन के टुकड़े को अपनी जागीर समझेंगे। इंसान दुनिया की दौलत के लिए अल्लाह की पैदा की हुईं चीजों को काट के बेच कर खाएंगे।

जमीन को खोदकर अल्लाह की नेअमते निकालकर बेचेंगे।
पहाड़ों को तोड़कर उसे बेचकर दौलत हासिल करेंगे। दरख़्तों को काट कर उनकी लकड़ियां बेचेंगे। हवाओं को अलुदा करेंगे पानी को गंदा करेंगे।
ऐ शख्स याद रखना अल्लाह अदल करता है।
और अल्लाह ने किसी चीज को फूज़ुल नहीं रखा।
ज़मीन को ज़्यादा खोदने से, उनकी मैंदनियात निकालने से जलजले पर जाएंगे।

हवाओं को अलूदा करने से हजारों ऐसी बीमारियां जन्म ले लेंगी। जो इंसानों के लिए ही नुकसान देगी। दरख़्त को काटने से इंसान अपनी ही सेहत को काटेगा। पानी को अलुदा करने से बरसात कम बरसेगी। लोग पानी के लिए तरसेगा।

और अल्लाह जो जमीनों के सीने पर पहाड़ जमाए हुए हैं। यह इसलिए है ताकि ज़मीन कायम रह सके लेकिन अफसोस पहाड़ को तोड़ेंगे और इसी वजह से जमीन अपनी जगह बदल लेंगी। और वो सूरज के क़रीब चली जाएगी।
और युं जलकर खत्म हो जाएगी।

और फिर अल्लाह अदल करेगा। इंसाफ करेगा कि इस खूबसूरत जमीन को इस तरह से तबाह क्यों किया गया। इंसानों पर जुल्म क्यों किया गया। और इंसानों की हक़ को दबाया क्यों गया।

ऐ शख्स ज़ुल्म तो इंसान करते हैं।अपने आप
पर, अल्लाह अदल करेगा। और उसी अदल के दिन को क़यामत कहते हैं।

लाइक शेयर कमेंट जरुर करें।