गाना सुनना ह़राम,और जहन्नम में ले जाने वाला काम है.How is the song listening in hindi

157
2

गाना सुनना ह़राम,और जहन्नम में ले जाने वाला काम है.How is the song listening in hindi

गाना (song) सुनना ह़राम ,और जहन्नम में ले जाने वाला काम है.नबी करीम ﷺ ने क़ुरबे क़ियामत के अलामात ज़िक्र करते हुए फ़रमाया के आखरी ज़माने में लोग आलाते मौसिकी को अपने लिए ह़लाल कर लेंगे. और बुज़ुर्गों ने क्या फ़रमाया यह भी हम इस लेख में पढ़ेंगे तो चलिए शुरू करते हैं
फ़रमाने मुस़्तफ़ा ﷺ
गाना (song) सुनना उस बदतरीन अमल में से हैं,जिसकी सज़ा दोज़ख़ की आग है.
फ़रमाने ह़ज़रत अली رضی اللہ تعالیٰ عنہ
गाना (song) सुनने से मर्द की ग़ैरत खत्म होती है.और औरत में बेह़याई पैदा होती हैं.
फ़रमाने इमाम ह़सन رضی اللہ تعالیٰ عنہ
दुनिया में गाने सुनने वालों की सफाअत मेरे नाना मोहम्मद मुस्तफा सल्लल्लाहो अलैही वसल्लम नहीं करेंगे,
फ़रमाने इमाम ह़ुसैन رضی اللہ تعالیٰ عنہ
जिसने गाना (song) सुना तो समझ लो वह मेरे क़त्ल में शामिल है.
इमाम अली जैनुल आबेदीन ने फरमाया رضی اللہ تعالیٰ عنہ
जिस घर से गाने की आवाज़ आती है तो मुझे अपने बाबा के क़ातिल याद आते हैं.
इमाम मोह़म्मद बक़ीर ने फरमाया رضی اللہ تعالیٰ عنہ
गाना ज़ना की सीढ़ी है,
इमाम जाफ़र सादिक़ ने फ़रमाया رضی اللہ تعالیٰ عنہ
जिस घर में गाना बजाए जाते हैं,वह घर अल्लाह की रह़मत से मह़रुम हो जाता है.
इमाम मूसा काज़िम رضی اللہ تعالیٰ عنہ ने फ़रमाया.
मुझे ज़ीनदान में सबसे ज़्यादा तकलीफ़ साथ के घर से आने वाले गानों की आवाज़ से होती थी.
इमाम अली रज़ा ने फ़रमाया رضی اللہ تعالیٰ عنہ
गाने सुनने वाला मोमिन कहलाने का हक़ नहीं रखता.
इमाम मोहम्मद तक़ी ने फरमाया رضی اللہ تعالیٰ عنہ
गाने सुनने से इंसान की आखरत तबाह हो जाती है. और औलाद नाफरमान हो जाती है.
इमाम अली नक़ी ने फरमाया رضی اللہ تعالیٰ عنہ
जिस दिल में अह़लेबैत की मोह़ब्बत हो वह कभी गाना नहीं सुनते.
इमाम ह़सन असकरी ने फ़रमाया رضی اللہ تعالیٰ عنہ
गाना सुनना इंसान को शैह़बत की तरफ लेकर जाता है.
इमाम मेहंदी ने फ़रमाया علیہ السلام
जो गाने सुन कर मेरी ज़हुर की दुआ मांगता है, उसे चाहिए मेरी ज़हुर की दुआ ना मांगे, क्योंकि गाने सुनने वाला मेरी सिपाहियों में नहीं होगा.
उनकी मिसाल ऐसे हैं जैसे कूफा वालों ने खत लिख कर मेरी जद ह़ुसैन को बुलाया.
हम अल्लाह ताअला से दुआ करते हैं,की अल्लाह ताअला हमें गाने(songs) सुनने से बचाए और नेक अमल करने की तौफीक अता फरमाए.
लाइक शेयर कमेंट जरूर करें.

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here