Home Relationships

जिद्दी बच्चों के लिए उपाय इन हिंदी| बच्चे जिद्दी हो तो क्या करें.

0

जिद्दी बच्चों के लिए उपाय इन हिंदी| बच्चे जिद्दी हो तो क्या करें, in hindi.

ह़ज़रत इमाम अली रज़ि अल्लाहु ताअला अन्हु के ख़िदमत में एक शख्स आया और दस्तेअदब को जोड़कर अर्ज़ करने लगा या अली “मेरी औलाद मेरी बात नहीं मानती मैं उससे बार-बार नसीहतें करता हूं, समझाता हूं लेकिन वो समझते नहीं,”

बस या कहना था तो इमाम अली रज़ि अल्लाहु ताअला अन्हु ने फ़रमाया ऐ शख्स याद रखना “हर इंसान हर चीज़ में खुद को तलाश करता है, और जहां वो खुद को नहीं पाता उस चीज़ को फुजूल समझता है.”

तो उसने कहा या अली कोई ऐसा तरीका बताएं, जिससे मेरे बच्चे मेरी बात माने, मेरा फरमाबरदार हो जाए, तो इमाम अली रज़ि अल्लाहु ताअला अन्हु ने फ़रमाया ऐ शख्स जब भी अपने बच्चों से बात करो तो उनको यह महसूस कराओ के तुम इस दुनिया में सबसे ज़्यादा उसे समझते हो, उसके रूह के करीब हो, उसके दिल के करीब हो, उसे महसूस कराओ कि तुम उसके बेहतरीन दोस्त हो, उसके रग रग से वाकिफ हो जाओ,

जब तुम अपने बच्चे को समझाने के लिए बच्चे बनकर समझोगे, उनका दोस्त बनकर इस बात को समझोगे के वह दुनिया को किस तरह से देखता है, तो यकीन जानो वह तुम्हें अज़ीज़ रखेगा, अपना रखेगा, और तुम्हारी कही हुई नसीहत पर अमल भी करेगा.

लेकिन तुम उसे समझे बगैर ही नसीहत ए करते रहोगे तो वह दिन पर दिन तुम्हारा बागी हो जाएगा, और यह दूरी एक दिन नफरत में अख्तियार कर लेगी.

यह भी पढ़ें:-What’s the difference between just and unjust relationship? in hindi.