बेवफा औरत और ईशा अलैहिस्सलाम का वाक्या

359
0

बेवफा औरत और ईशा अलैहिस्सलाम का वाक्या

बेवफा औरत और ईशा अलैहिस्सलाम का वाक्या
एक दिन ह़ज़रत ईसा अलैहिस्सलाम का गुज़र एक कब्रिस्तान से हुआ। तो वहां एक शख्स एक क़ब्र के पास बैठा जारो कतार रो रहा था।
आप अलैहिस्सलाम ने रोने का सबब पूछा। तो उसने बताया यह मेरी बीवी की कब्र है ,यह मेरे चाचा की बेटी थी।
मुझे इससे बहुत ज्यादा प्यार था। मैं इसकी जुदाई बर्दाश्त नहीं कर सकता।
हज़रत ईसा अलैहिस्सलाम ने फरमाया, अगर तुम चाहो तो मैं अल्लाह के हुक्म से तुम्हारी बीवी को जिंदा कर दुं।
वह बेकरार होकर कहा हां ऐसा जरूर कर दीजिए ‌ चुनांचे आप अलैहिस्सलाम ने कब्र के पास खड़े होकर कहा, अल्लाह के हुकुम से उठ जा ।
कबर फटी और उसमें से एक हबशी गुलाम बाहर निकला। जिस पर आग के शोले भड़क रहे थे। उसने हज़रत ईसा अलैहिस्सलाम को देखकर बाआवाज़े बुलंद कलमा पढ़ना शुरू कर दिया।
उसका कलमा पढ़ना था कि आग बुझ गई। और आज़ाबे इलाही उससे दूर हो गया।
उस शक्स ने कहा मुझसे गलती हो गई मेरी बीवी की कब्र यह नहीं, बल्कि दूसरी है। आप अलैहिस्सलाम वहां तशरीफ ले गए और कहा अल्लाह के हुक्म से उठ जा, फिर कबर फटी और उसमें से एक हसीन व जमील औरत बाहर निकली।
उस शक्स ने देखते ही उसका हाथ पकड़ लिया। और कहां ऐ अल्लाह के नबी यही मेरी बीवी है।
हज़रत ईसा अलैहिस्सलाम उन दोनों को वहीं छोड़ कर आगे तशरीफ ले गए। वह अपनी बीवी से मिलकर बहुत खुश था।कुछ देर के बाद उस पर नींद का गलबा हुआ,और वह वही सो गया।
उसकी बीवी वही उसके करीब बैठी रही, इतने में वहां से एक शाहजादे का गुजर हुआ, शहजादे ने औरत को देखा तो उसे पसंद आ गई, औरत को भी शहजादा पसंद आ गया। और वह अपने सौहर को सोता छोड़कर शाहजादे के साथ चली गई।
जब उस मर्द की आंख खुली तो वह अपनी बीवी को ना पाकर बहुत परेशान हुआ, ढूंढते-ढूंढते शहजादे के महल तक पहुंच गया। वहां उसे उसकी बीवी नजर आई तो उसने यह कहा यह मेरी बीवी है।
शहजादे ने कहा तुम झूठ बोलते हो यह तो मेरी लौंडी है। यकीन नहीं आता तो इसी से पूछ लो। यह सुनकर वह बेवफा औरत ने फौरन कहा, हां मैं शहजादे के लौंडी हूं मैं तो तुम्हें जानती तक नहीं हूं।
तुम बेकार मुझ पर इल्जाम लगा रहे हो, यह सुनकर वह रोता हुआ महल से वापस आ गया।
कुछ दिनों बाद हजरत ईसा अलैहिस्सलाम से मुलाकात हुई। तो अर्ज कि ऐ अल्लाह के नबी
मेरी बीवी जिसे आपने जिंदा किया था,
अब वह शहजादे के पास है। शहजादा अपनी लौंडी बताता है ।और वह भी यही कह रही है की मैं शहजादा की लौंडी हूं, तुम्हारी बीवी नहीं।
आप हमारा फैसला फरमा दें चुनांचे आप अलैहिस्सलाम ने उस औरत से कहा, क्या तू वही नहीं जिसे मैंने अल्लाह के हुकुम से जिंदा किया था।
औरत ने कहा नहीं मैं वह नहीं हूं तो आप अलैहिस्सलाम ने उस औरत से कहा तो मेरी दी हुई चीज मुझे वापस कर दे।
इतना फर्माना था कि वह झूठी और बेवफा औरत जमीन पर मुर्दा होकर गिर पड़ी।
फिर हज़रत ईसा अलैहिस्सलाम ने फरमाया जो शख्स ऐसे मर्द को देखना चाहे जो काफिर होकर मरा था। फिर अल्लाह ने उसे जिंदा करके ईमान की दौलत से नवाज़ा, तो वह उस हबशी गुलाम को देखलें।
और जो ऐसी औरत को देखना चाहे, जो ईमान की हालत में मरी, फिर अल्लाह ने उसे जिंदा किया, और वह कुफर की हालत में मरी, तो वह इस औरत को देखलें।
अल्लाह ताला से दुआ करते हैं कि हजरत ईसा अलैहीस्सलाम के सदक़े वसीला से दीने हक़ पर चलने और मरने के वक्त ईमान सलामत फरमाए, आमीन
लाइक शेयर कमेंट जरुर करें।
कोई ऐसा अमल बताएं जिससे मैं अमीर हो जाऊ

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here