Home इतिहास शहाबुद्दीन गौरी और पृथ्वीराज का घमासान लड़ाई एक ऐतिहासिक जंगी वाक्या

शहाबुद्दीन गौरी और पृथ्वीराज का घमासान लड़ाई एक ऐतिहासिक जंगी वाक्या

22

शहाबुद्दीन गौरी और पृथ्वीराज का घमासान लड़ाई एक ऐतिहासिक जंगी वाक्या

शहाबुद्दीन गौरी सन 1160 ईस्वी को अफगानिस्तान के इलाक़े गौर के में पैदा हुए. शहाबुद्दीन गौरी सल्तनत ए गौरिया का दूसरा हुक्मरान था.
सैफुद्दीन गौरी के इंतकाल के बाद शहाबुद्दीन गौरी के भाई गयासुद्दीन सल्तनत ए गोरिया के तख्त पर बैठा. और उसने 1173 में गजनी को मुस्तकिल तौर पर फतह करके उसने शहाबुद्दीन मोहम्मद गौरी को गज़नी में तख्त पर बिठाया.शहाबुद्दीन गौरी और पृथ्वीराज का घमासान लड़ाई एक ऐतिहासिक जंगी वाक्या
गयासुद्दीन ने इस दौरान हीरात और बलख में भी फतह कर लिया, और हीरात को अपना दारुल हुकूमत बनाया, सुल्तान शहाबुद्दीन गौरी अगरचे अपने भाई का नायब था, लेकिन उसने गजनी में एक आजाद हुक्मरान की तरह हुकूमत की.
और मौजूदा पाकिस्तान और सुमाली हिंदुस्तान को फतह करके तारीख में मुस्तकिल मकाम पैदा कर लिया, अपने भाई गयासुद्दीन के इंतकाल पर वह पूरी गौरी सल्तनत का हुक्मरान बन गया.
शहाबुद्दीन मोहम्मद गौरी के फ़ौजी करवाही, पाकिस्तान के इलाके से शुरू हुई वह दरेगोमल से पाकिस्तान में दाखिल हुए, उसने सबसे पहले मुल्तान और ऊच पर हमला किया.
शहाबुद्दीन गौरी ने 1175 में मुल्तान और ऊच दोनों फतह कर लिए, उसके बाद 1179 में पेशावर और 1185 में देवल को फतह कर लिया, इस तरह उन्होंने गोरी हुकूमत को बाहरी अरब के शाहील तक पहुंचा दिया.
लाहौर और उसके आसपास का इलाका उस वक्त तक गजनी खानदान के कब्जे में था। शहाबुद्दीन गौरी ने 1186 में लाहौर पर हमला करके उसने गजनी खानदान की हुकूमत को बिल्कुल खत्म कर दिया.
लाहौर पर कब्जा करने के बाद वह भटिंडा की तरफ बढ़ा और वहां भी अपनी कामयाबी के झंडे गाड़ दिए.
उस वक्त दिल्ली और अजमेर पृथ्वीराज चौहान की कब्ज़े में था.
पृथ्वीराज चौहान ने जब यह सुना कि शहाबुद्दीन गौरी ने भटिंडा फतह कर लिया है, तो वह दो लाख की जबरदस्त फौज लेकर शहाबुद्दीन गौरी से लड़ने के लिए निकला,
दिल्ली के शुमाल मगरीब में करनाल के करीब एक मैदान में दोनों तरफ की फौज में घमासान की लड़ाई हुई.शहाबुद्दीन गौरी और पृथ्वीराज का घमासान लड़ाई एक ऐतिहासिक जंगी वाक्या
इस लड़ाई में शहाबुद्दीन गौरी के कलील फौज की शिकस्त हुई,और वह बुरी तरह जख्मी हो गया, जख्मी हालत में एक सिपाही ने उसको बचाकर मैदान-ए-जंग से ले गया.
सिपाही अपने जरनल शहाबुद्दीन गौरी को
ना देखकर बुजदिल हो गए और मैदान-ए-जंग से भाग निकले.
इधर शहाबुद्दीन गौरी को जख्मी हालत में लाहौर लाया गया, जहां से उसे गजनी पहुंचाया गया.
शहाबुद्दीन गौरी को इस शिकस्त का कितना रन्ज हुआ कि उसने 1 साल तक हर तरह की ऐश व आराम को छोड़कर बेचैनी की जिंदगी गुजारी.
यहां तक कि उसने अपने जरनैल से भी बात करना छोड़ दिया था.
फिर उसने अपने तमाम जरनैल को तरबीयत यफता फौज तैयार करने का हुक्म दिया.
कुछ अरसा बाद एक लाख बीस हजार सिपाहियों पर मुसतमील एक बहुत बड़ी फौज लेकर पिछले शिकस्त का बदला लेने के लिए.
दिल्ली की तरफ रवाना हुआ, उधर जब पृथ्वीराज को पता चला तो उसने भी भारत के ढाई सौ राजाओं की मदद से तीन लाख से ज्यादा फौज और कई हजार जंगी हाथी जमा कर लिए.
और जंग के लिए रवाना हुआ.
दोनों तरफ की फौज एक बार फिर
तराइन अतरौली के मैदान में आमने-सामने हुई.
पृथ्वीराज चौहान ने शहाबुद्दीन गौरी को एक खत लिखा और नसीहत की अपने सिपाहियों के हाल पर रहम खाओ और उन्हें लेकर गजनी वापस चले जाओ हम तुम्हारी जान बख्श देंगे और पीछा नहीं करेंगे.
लेकिन शहाबुद्दीन गौरी ने निहायत जूर्रतमंदाना जवाब दिया के वह अपने भाई के हुक्म के मुताबिक अमल करता है.
इसलिए बगैर जंग की वापसी मेरे लिए नामुमकिन है अगले दिन दोनों फौज का आमना सामना हुआ एक बार फिर घमासान की लड़ाई शुरू हुई.
पृथ्वीराज के तीन लाख से ज्यादा फौज के मुकाबले में शहाबुद्दीन गौरी की एक लाख फौज मदे मुकाबिल थी.
जंग सूरज निकलने से पहले शुरू हुई शहाबुद्दीन गोरी के फौज इतनी जवान मर्दी से लड़ी कि पृथ्वीराज की फौज की कदम डगमगाने लगी शाम होने से पहले पहले जंग का नतीजा सामने आ चुका था.
शहाबुद्दीन गौरी को फतह हासिल हुई और पृथ्वीराज की शिकस्त हुई पृथ्वीराज ने मैदान-ए-जंग से भाग कर अपनी जान बचाई.
मगर दरिया ए सरस्वती के पास से गिरफ्तार हुए.
उसके बाद सुल्तान शहाबुद्दीन गौरी के हुकुम पर उसे क़त्ल कर दिया गया,पृथ्वीराज को शिकस्त देने के बाद शहाबुद्दीन गौरी ने दिल्ली और अजमेर को भी फतह कर लिया.
और उसके सिपासलार मलक मोहम्मद इब्ने बख्तियार खिलजी ने आगे बढ़कर बिहार और बंगाल को भी फतह कर लिया.
इस तरह शहाबुद्दीन गोरी ने एक अज़ीमोशान सल्तनत की बुनियाद रखी…
1206 में पंजाब में बगावत शुरू हुई शहाबुद्दीन गौरी फौरन पंजाब आया और बगावत को कुचल कर वापस जा रहा था,के रास्ते में दरिया के किनारे,उन पर एक हमला किया गया.यह हमला जानलेवा साबित हुआ और युं हिंदुस्तान की तारीख में एक नया बाब रकम करके इस दुनिया ए फानी से रुखसत हो गए.
वफात के बाद उनके वफादार गुलाम और नायब कुतुबुद्दीन ऐबक ने
एक मुस्तकिल इस्लामी हुकूमत यनि सल्तनत दिल्ली को खानदाने गुलमा के ज़ेरे असर कायम कर ली.
दोस्तों ये लेख अच्छा लगा तो लाइक शेयर कमेंट जरुर करें

इसे भी पढ़ें

सुल्तान महमूद गजनबी और 6 छौ चोरों का ह़िकमत भरी वाक्या.
खुशियों की चाहत हर कीसी को होता है. हर कोई चाहता है कि उसकी जिंदगी में

22 COMMENTS

  1. It is the best time to make some plans for the future and it is time
    to be happy. I’ve read this put up and if I may just I want to recommend you few fascinating issues or
    tips. Maybe you can write next articles relating to this article.
    I desire to learn even more things about it! I could not refrain from commenting.
    Very well written! It’s perfect time to make some plans for the future and it’s
    time to be happy. I have read this post and if I could I wish to
    suggest you some interesting things or suggestions.
    Maybe you can write next articles referring to this article.

    I desire to read more things about it! http://Cspan.org/

  2. Usually, there’s no reason behind you to definitely be looking of one’s boxcars,but sometimes, police officers, and other government departments,
    should watch exactly what a individual is doing on the internet.
    With the emergence of ecommerce business throughout the last decades, several ecommerce
    business solution providers have been also grown. The final decision still belongs to
    my client, but I know I have saved my clients time and effort and funds through the years and earned their
    undying gratitude in the process.

  3. Since OLA was established in 2005, we’ve got been working with the FTC and law enforcement agencies to guard our clients.
    Actually, we helped the FTC deliver down an company that collected phantom quick-time period mortgage money owed” that consumers didn’t owe.

  4. Its like you read my mind! You appear to know so much about this,
    like you wrote the book in it or something. I think that you can do with
    some pics to drive the message home a little bit, but instead of that, this
    is excellent blog. A great read. I will definitely be back.

  5. Hello There. I found your blog using msn. This is
    a really well written article. I’ll make sure to bookmark
    it and return to read more of your useful info.
    Thanks for the post. I’ll certainly comeback.

  6. This iss the right site for anyone who really wanfs too understand this topic.
    You understand a whkle lot its almost hard to arghe with you (not that I actually will need to…HaHa).
    You definitely put a fresh spin on a subject which has been written about for years.
    Wonderful stuff, just great!

  7. Greetings! I know this is kind of off topic but I was wondering which blog platform are you using for this website?
    I’m getting fed up of WordPress because I’ve had problems with hackers and I’m looking at alternatives for another platform.
    I would be fantastic if you could point me in the direction of a good platform.

  8. Write more, thats all I have to say. Literally, it seems as though you relied on the video to
    make your point. You definitely know what youre talking about, why waste your intelligence on just
    posting videos to your weblog when you could be giving us something informative to read?

  9. It’s appropriate time to make some plans for the future
    and it is time to be happy. I’ve read this post and if I
    could I want to suggest you few interesting things or advice.
    Maybe you could write next articles referring to this
    article. I wish to read more things about it!

  10. I blog frequently aand I truly appreciate your information. The article
    has rreally peaked my interest. I’m going to book mark your website and kerp checking
    for new details about once per week. I sjbscribed to
    your RSS feeed as well.

  11. Hello there I am so glad I found your website, I really found you by mistake, while
    I was searching on Digg for something else, Regardless I am here now and
    would just like to say thanks a lot for a incredible post and a all
    round exciting blog (I also love the theme/design), I don’t have time
    to read through it all at the moment but I have saved
    it and also included your RSS feeds, so when I have time I
    will be back to read more, Please do keep up the great jo.

  12. Hmm is anyone else encountering problems with the pictures on this
    blog loading? I’m trying to determine if its a problem on my
    end or if it’s the blog. Any suggestions would be greatly appreciated.

  13. I precisely wanted to say thanks once again. I do not know the things that I would have carried out without those opinions contributed by you directly
    on such area. It absolutely was a real difficult case in my view, however , witnessing
    a new specialised mode you treated it forced me to cry over happiness.
    I will be grateful for the information and as well , expect you recognize what an amazing
    job that you are accomplishing instructing the rest
    via your website. I am sure you haven’t come across all of us.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here