Home हीन्दी कहानीयां it is acjective of my life to help others when i help...

it is acjective of my life to help others when i help someone i feel happy

0

it is acjective of my life to help others when i help someone i feel happy

एक औरत का मैं वाकिया सुनाता हूं।अमेरिका में एक औरत थी उसकी उम्र 65 साल थी। जब वह रिटायर हुई तो उसे 5 या 6 लाख डॉलर फंड मिले जो रिटायर के फंड होते हैं। और वह अच्छी लाइफ गुज़ार रही थी। बड़ी गाड़ी उसने रखी थी फोर व्हीलर ड्राइव। एक दफा वह कहीं से आ रहीे थीे कि अचानक उसके गाड़ी के टायर पंचर हुआ तो उसको गाड़ी एक तरफ खरी करनी पड़ी। और वह गाड़ी से बाहर निकली और देखा कि टायर पंचर हो गया है और टायर बदलना पड़ेगा लेकिन बड़ी गाड़ी का टायर बड़ी होती है उसे बदलना मुश्किल भी होता है होता है और एक बंदे के लिए बड़ी मुश्किल काम है फिर तो वह औरत जात थी औरत कमजोर होती है नहीं कर सकती हैं। वो खरी सड़क के किनारे आने वाली गाड़ी को रोक रही थी कि कोई बंदा मेरी मदद करें। चूंकि दिन का टाइम था सूरज खूब गर्मी बरसा रहा था। लोग मसरुफ था आने वाली गाड़ी तेजी से आ रही थी और तेजी से जा रही थी कोई रोक नहीं रहा था। उस औरत को 1 घंटे धूप में खड़े रहना पड़ा ।और उसका चेहरा सुर्ख और लाल हो गया था जैसे जल गया हो धूप की गर्मी की वजह से। बुरा हाल उसका और कोई उसकी मदद के लिए रुक नहीं रहा था। और परेशान भी थी बड़ी देर के बाद एक लड़का जिसका उम्र तकरीबन 32 साल था। उसने रुका और पूछा आपने मुझे क्यों रोका उसने कहीं के मुझे आपकी मदद चाहिए मेरे टायर बदलवाने में मेरी मदद करें ताकि मैं भी चल परु। फिर लड़के ने गाड़ी रोक दी और बाहर आया और उसने औरत को देखा बड़ी परेशान है बड़ी पसीने-पसीने हुई है। उसने औरत से कहा आप मेरी गाड़ी में बैठ जाइए उसमें ऐसी चलता है आपको आराम मिलेगा मैं आपकी गाड़ी को जब तक बना देता हूं। और मैं नवज़वान हूं मैं अकेला गाड़ी का टायर चेंज कर लेता हूं मेरे लिए कोई प्रॉब्लम नहीं है। और चुनानचे वह औरत उसके गाड़ी कि अगली सीट पर आकर बैठ गई और वह लड़का टायर चेंज करने में लग गया। अब यह औरत ठंडी जगह पर बैठी तो उसका हालत बहाल हुआ तो उसने देखा कि लड़का बड़ी मशक्कत के साथ टायर बदल रहा है। तो उसके दिल में एहसास हुआ के यह नौजवान बच्चा है। और इसने मेरी खातिर इतनी तकलीफ उठाई और मुझे आराम दिया और खुद अकेले तकलीफ उठाई मुझे भी कह सकता था कि मेरी हेल्प करो मैं हेल्प करती लेकिन उसने मुझे एयर कंडीशन जगह पर बैठा दिया और खुद काम करने में लग गया। उसके दिल में यह बताया कि अगर यह टायर बदल देगा तो मैं इसको $300 डालर दे दूंगी ताकि इस को भी फायदा हो जाएगा। खैर कुछ देर लगा लड़के ने टायर बदल दिया और आकर कहा कि हमने आप के गाड़ी के टायर बदल दिया है अब आप जा सकतीं हैं। अब इस औरत ने दो $300 डालर जेब से निकाली और लड़के को दने लगीे।लड़के ने कहा मैं गिफ्ट नहीं लेता। उसने कहा क्यों नहीं लेते तो उसने कहा.it is acjective of my life to help others when i help someone i feel happy यह जो मुझे खुशी मिलती है ना दूसरों को मदद करके मेरे लिए यही रिवार्ड्स काफी है मुझे दो $300 डालर नहीं चाहिए। अब वह औरत अपनी गाड़ी में आई और चल पड़ी और उसके जीवन में ही फिक्र घूम रहा था.it is acjective of my life to help others when i help someone i feel happy. और वह सोच रही थी कि दुनिया में ऐसे भी इंसान होते हैं जो दूसरों को मदद करके खुश होते हैं। अब वह गाड़ी जब चलाई तो थोड़ी देर के बाद उसे एहसास हुआ कि मुझे तो प्यास भी लगी है और भूख भी लगी है। उसने सोचा ठीक है आगे रेस्टोरेंट पर गाड़ी रोकेंगे फिर खाना खाएंगे फिर आगे चलेंगे। अब वह रेस्टोरेंट के पास पहुंच कर वहां उतर कर खाने खाने के लिए रेस्टोरेंट में गई और उसने लेडीज वेटर को ऑर्डर दिया कि मेरे खाने के लिए कुछ लेकर आओ और लेकीन इसके दिमाग में वही बात चल रहा था कि उस लड़के ने कितनी अच्छी बात कही है।
it is acjective of my life to help others when i help someone i feel happy. फिर उसने देखा कि जो लेडीज वेटर है उसको प्रेग्नेंसी है और उसका प्रेगनेंसी लगभग छठा या सातवां महीना चल रहा होगा। यानि काफी वक्त क़रीब है डिलीवरी का। अब ऐसे वक्त में औरत को तो घर पर आराम करना चाहिए लेकिन वह काम कर रही है। उसने सोचा गरीब लोग लड़की है इसलिए काम कर रही है ताकि अपने आप को सपोर्ट कर सके। तो उसने बात की तुम्हारा क्या हाल है तो उसने बताया कि मैं प्रेग्नेंट हूं और मेरा सातवां महीना चल रहा है। यहां पर जो हॉस्पिटल है वह बड़ा महंगा है उसका फीस हम नहीं दे सकते इसलिए हम और हमारे हस्बेंड ने सोचा है कि हम दोनों मिलकर काम करेंगे।और पैसे जमा करेंगे और फीस भरेंगे। क्योंकि हमें पैसे जमा करने हैं इसलिए हम छुट्टी नहीं कर सकते इसलिए हम इस वक्त ड्यूटी कर रहे हैं। अब इस औरत को खयाल है कि मेरे पास तो रिटायरमेंट के हाफ मिलियन डॉलर बैंक में पड़े हैं। अब हाफ मिलियन डॉलर फालतू पड़े हैं। अब मैं इसको इसके डिलीवरी के फीस दे भी दु तो मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता और यह बच्ची अपने घर में आराम करेगी। इस ने उससे पूछा कि हॉस्पिटल की फीस कितनी है उसने कहा 5000 डॉलर है। उसने $5000 का चेक लीखकर उसके लिफाफे में रख दिया और उसने कहा इसको यहां नहीं खुलना है। इस लिफाफे को अपने घर पर ही जाकर खोलना और कह कर वह बूढ़ी औरत अपने घर को चली गई। और वो लेडीज वेटर भी अपने घर चली आई ।उसका हसबैंड जो बिजनेस के लिए बाहर गया था वह भी घर पर आ चुका था।अब दोनों रात को खाना खाने के लिए बैठ गए और दोनों डिस्कस करने लगी कि बच्चे की डिलीवरी के लिए अब कितना वक्त रह गया है। उसने बताया कि अल्ट्रासाउंड करने वाली औरत ने बच्चे की डिलीवरी को इस तारीख का डेट बताया है। हस्बैंड ने कहा तो हमें पैसे को तैयार रखनी चाहिए क्योंकि हॉस्पिटल वाले को पैसे पहले देने होते हैं तब वह बंदे को एडमिट करता है। तो क्या तुम्हारे पास पैसे तैयार हो गए उसने कहा हमारे पास पैसे तैयार हो गए हैं। हां मुझे आज एक औरत मिली थी रेस्टोरेंट में उसने मुझे गिफ्ट दिया है लिफाफे में वह मेरे जेब में है पता नहीं क्या है। उसका हस्बैंड ने कहा ठीक है लेकर आओ देखते हैं उसमें क्या है। तो उसने उस लिफाफे को खोलकर देखा तो उसमें $5000 डॉलर का एक चेक था जो एक बहुत बड़ी रक़म होती है। $5000 डॉलर गिफ्ट कीसी को मिल जाए लोग सोच भी नहीं सकता। तुम वह लड़का हैरान हो गया कि अच्छा उस औरत ने तुम्हें $5000 डॉलर गिफ्ट कर दिए जो हॉस्पिटल की फुल फीस थी। तो लड़की ने कहा जी हां उसने यह गिफ्ट दिया है। तो जब उस लड़के ने पढ़ा तो उसमें एक छोटा सा text भी लिखा था। उस पर लिखा था.it is acjective of my life to help others when i help someone i feel happy. यह वह लड़का था जिसने उस औरत की टायर को चेंज किया था। इसने उस औरत को हेल्प की थी अल्लाह की खातिर और अल्लाह ने इस औरत के दिल में डाला और उसने उसकी बीवी को $5000 डॉलर देकर हेल्प किया। जब हम दूसरों को हेल्प करेंगे तो अल्लाह हमारी भी हेल्प करेगा। जो इंसान दूसरे को हमेशा हेल्प करता है। तो उसके साथ भी हमेशा अच्छा ही होता है। हमें यह नहीं सोचना चाहिए कि कोई हमारी मदद नहीं करता हम क्यू करें। कोई मदद करे ना करे हमें तो दूसरों की मदद करना है। हमेशा हमें दूसरों की मदद करना चाहिए।