Home Motivational Articles Bhalai se pahle ye zarur sochna, hazrat imam Ali ne farmaya, in...

Bhalai se pahle ye zarur sochna, hazrat imam Ali ne farmaya, in Hindi.

0

एक मर्तबा एक शख्स उदास बैठा था ह़ज़रत इमाम अली रज़ि अल्लाहु ताअला अन्हु रस्ते से गुजर रहे थे, आप उसके करीब आए और फ़रमाने लगे, ऐ बंद ए खुदा क्यों उदास हो? उसने कहा या अली मुझे आज अफसोस हुआ के मेरे बेइंतेहा भलाई के बदले में बुराई मिली, बस यह कहना था तो इमाम अली रज़ि अल्लाहु ताअला अन्हु मुस्कुराकर के फ़रमाया ऐ शख्स याद रखना, “जब भी तुम किसी के साथ भलाई करो और तुम्हें उसके बदले बुराई मिले तो यह समझना तुम्हारी भलाई क़ुबूल हो गई,”
तो वो कहने लगा या अली! वो कैसे? तो आपने फ़रमाने लगे ऐ शख्स यह दुनिया झूठ, फरेब, धोखे, और नफरत से भरी हुई है.
यहां भलाई, रहम, हमदर्दी, प्यार, वफा के बदले दुख और तकलीफे मिलती है.
अगर कोई ये समझता है कि मुझे मोहब्बत के बदले मोहब्बत मिलेगी, तो वह मासूम है, अगर कोई ये समझता है कि मुझे हमदर्दी के बदले हमदर्दी मिलेगी, तो वह कम अक्ल है, अगर कोई ये समझता है कि मेरी रहम के बदले मुझ पर रहम किया जाएगा तो वह ना तजुर्बे कार है.
तो वो कहने लगा या अली! तो क्या हम रहम ना करें, हमदर्दी ना करें, प्यार ना करें, वफा ना करें,

बस जब बात यहां तक पहुंची तो इमाम अली रज़ि अल्लाहु ताअला अन्हु ने फ़रमाया, रहम, हमदर्दी, प्यार, भुलाई ये सोचकर करो कि अल्लाह की मखलूक़ात है, इसका अजर (मुनाफा) अल्लाह मुझे देखगा,
ये खिलक़त(दुनिया वाले नहीं) नहीं.

अगर तुम्हारी उम्मीदें इस मखलूक़ात से जुड़ी हुई होंगी तो तुम्हारी तजलील (अपमान तय है)तय हैं.

लेकिन अगर तुम्हारी उम्मीदें उसके आजर व सवाब मखलूक़ात के खालिक़ से जुड़ी होंगी तो यकीनन तुम्हारे वजूद में ये सोच बढ़ने लगेगी के जितने ज्यादा भलाई के बदले मुझे बुराई मिल रही है, उतना उतना अजर व सवाब अल्लाह के नजदीक बढ़ रहा है.

यह लेख अच्छा लगा तो लाइक शेयर कमेंट जरुर करें, और अपने दोस्तों के साथ शेयर भी करें.

यह भी पढ़ें:-Get success | Kamyaabi me Rukawat khatam Karne Ka Asan Amal,in Hindi.

ek martaba ek shakhs udaas baitha tha hazrat imaam ali razi allaahu taala anhu raste se gujar rahe the, aap usake kareeb aae, aur faramaane lage, ai band e khuda kyon udaas ho?
usane kaha ya ali mujhe aaj aphasos hua ke mere beinteha bhalaee ke badale mein buraee milee,

bas yah kahana tha to imaam alee razi allaahu taala anhu muskurakar ke faramaaya ai shakhs yaad rakhana, “jab bhee tum kisee ke saath bhalaee karo aur tumhen usake badale buraee mile to yah samajhana tumhaaree bhalaee qubool ho gaee,”

to vo kahane laga ya alee! vo kaise? to aapane faramaane lage ai shakhs yah duniya jhooth, phareb, dhokhe, aur napharat se bharee huee hai.

yahaan bhalaee, raham, hamadardee, pyaar, vapha ke badale dukh aur takaleephe milatee hai.

agar koee ye samajhata hai ki mujhe mohabbat ke badale mohabbat milegee, to vah maasoom hai, agar koee ye samajhata hai ki mujhe hamadardee ke badale hamadardee milegee, to vah kam akl hai, agar koee ye samajhata hai ki meree raham ke badale mujh par raham kiya jaega to vah na tajurbe kaar hai. to vo kahane laga ya alee! to kya ham raham na karen, hamadardee na karen, pyaar na karen, vapha na karen,

bas jab baat yahaan tak pahunchee to imaam alee razi allaahu taala anhu ne faramaaya, raham, hamadardee, pyaar, bhulaee ye sochakar karo ki allaah kee makhalooqaat hai, isaka ajar (munaapha) allaah mujhe dekhaga, ye khilaqat(duniya vaale nahin) nahin.

agar tumhaaree ummeeden is makhalooqaat se judee huee hongee to tumhaaree tajaleel (apamaan tay hai)tay hain.

lekin agar tumhaaree ummeeden usake aajar va savaab makhalooqaat ke khaaliq se judee hongee to yakeenan tumhaare vajood mein ye soch badhane lagegee ke jitane jyaada bhalaee ke badale mujhe buraee mil rahee hai, utana utana ajar va savaab allaah ke najadeek badh raha hai.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here