Home Motivational Articles Imam Hasan ibn Ali ki shakhawat |waqia|Islamic in Hindi.इमाम ह़सन.

Imam Hasan ibn Ali ki shakhawat |waqia|Islamic in Hindi.इमाम ह़सन.

115
0

Imam Hasan ibn Ali ki shakhawat |waqia in Hindi.इमाम ह़सन

एक मर्तबा शाम के हाकिम ने यह सोचा कि ह़सन इब्ने अली को मैं दावत पर बुलाऊं, अगर ह़सन यह दावत क़बूल नहीं करेगा तो हम कहेंगे कि हम तो दोस्ती का हाथ बढ़ाते हैं, लेकिन यह औलाद ए रसूल ﷺ तकब्बुर करते हैं, हमें अपना नहीं समझते,
और अगर ह़सन हमारी दावत क़बूल करेगा तो फिर मैं ह़सन को बहुत हीरे और बहुत सारे सोने की अशरफिया दूंगा, अगर ह़सन क़बूल करेगा तो हम यह बातें लोगों में फैलाएंगे के यह और इसका बाबा अली कहते हैं कि हमने तो दुनिया को तलाक दे दी, फिर इन्होंने हीरे और सोना को क़बुल क्यों किया,
लेकिन अगर ह़सन क़बूल नहीं करेगा तो हम कहेंगे, कि रसूल अल्लाह ﷺ तो हदिया कबूल करते थे, लेकिन यह कैसी औलाद है जो उम्मत का हदिया ठुकरा देती है,
बस इमाम ह़सन रज़ि अल्लाहु ताअला अन्हु को दावत दी गई, और यह बात पूरी शाम में फैल गई, इमाम ह़सन रज़ि अल्लाह ताअला अन्हु ने दावत कुबूल की, और अपने मुबारक क़दम लिए शाम की तरफ रवाना हुए,
यह खबर नालैन (जूते) बनाने वाले को पहुंची तो उसने सोचा मैं अपनी तरफ से
अल्लाह के रसूल ﷺ के बेटे को तोहफा क्या दूं,?
सोचता रहा बिल आखिर उसकी बीवी ने कहा एक खूबसूरत नालैन (जूते) बनाओ और फिर अपने हाथों से रसूल अल्लाह के नवासे को पहनाओ, हम गरीब हमारी औकात क्या, हम इससे ज्यादा दे ही क्या सकते हैं, बस उसने नालैन (जूते) बनाना शुरू कर दी,
और इमाम हसन रज़ि अल्लाहु ताअला अन्हु शाम शहर आ पहुंचे, तमाम लोग इमाम ह़सन की ज़ियारत करने के लिए जमा होने लगे, और वह नालैन (जूते) बनाने वाला नालैन (जूते) बनाकर इमाम हसन रज़ि अल्लाह ताअला अन्हु की ख़िदमत में आया, और दस्तेअदब को जोड़कर अर्ज किया नवासा ए रसूल ﷺ मैंने बड़े खुलुस और प्यार से आप के लिए ये नालैन (जूते) तैयार की है, मुझ हकीर का यह तोहफा कुबूल करें,
इमाम ह़सन ने फ़रमाया अल्लाह नियत देखता है, तुम्हारा तोहफा हमने कुबूल किया, जब वो जाने लगा तो इमाम हसन ने फ़रमाया ठहरो मेरे साथ चलो,
वो नालैन (जूते) बनाने वाला और रसूल अल्लाह ﷺ का शहजादा हसन जब दरबारे शाम पहुंचे तो हाकिम ए शाम ने इमाम हसन रज़ि अल्लाहु ताअला अन्हु के पास बहुत सारे हीरे और बहुत सारे सोने की अशरफिया भेजी,
और ये कहा, यह मेरे तरफ से आपको हदिया है, जो दरबार में लोग थे वह कहने लगे, इतने हीरे इतनी अशरफिया रसूल के बेटे को,
तो हाकिम ए शाम ने कहा दुनिया को मालूम होना चाहिए अबू सुफियान का बेटा कितना शखी है के रसूल अल्लाह के बेटे को क्या हदिया देता है,
इमाम हसन मुस्कुराने लगे,
इतने में वो नालैन (जूते) बनाने वाला कहता है, मौला अब मुझे इज़ाजत दें, इमाम ह़सन ने फ़रमाया ऐ मेरी नालैन (जूते) बनाने वाले, ये सारे हीरे और यह सारे सोने की अशरफिया यह मैंने इस नालैन (जूते) बनाने के बदले तुमको हदिया कर दी, वो नालैन (जूते) बनाने वाला खुशी खुशी जैसे ही वह अशरफिया उठाने लगे, दरबार में शोर मच गया कि इतने हीरे इतने सोने की अशरफिया सिर्फ एक नालैन (जूते) बनाने के बदले,
तो अल्लाह के रसूल के नवासे ह़सन इब्ने अली ने फ़रमाया कायनात को मालूम होना चाहिए, के रसूल अल्लाह ﷺ का नवासा कितना सखी है, जो अपने नालैन (जूते) बनाने वाले को हीरे और सोने के अशरफिया नवाज़ता है,
सलाम हो रसूल अल्लाह के नवासे इमाम अली व जनाबे सैयदा फातिमा का फर्जंद, इमाम ह़सन इब्ने अली पर,
यह लेख अच्छा लगा तो लाइक शेयर कमेंट जरुर करें, और अपने दोस्तों के साथ शेयर भी करें.

In English:

ek martaba shaam ke haakim ne yah socha ki hasan ibne alee ko main daavat par bulaoon, agar hasan yah daavat qabool nahin karega to ham kahenge ki ham to dostee ka haath badhaate hain, lekin yah aulaad e rasool (ﷺ) takabbur karate hain, hamen apana nahin samajhate,
aur agar hasan hamaaree daavat qabool karega to phir main hasan ko bahut heere aur bahut saare sone kee asharaphiya doonga, agar hasan qabool karega to ham yah baaten logon mein phailaenge ke yah aur isaka baaba “alee kahate hain ki hamane to duniya ko talaak de dee,” phir inhonne heere aur sona ko qabul kyon kiya,
lekin agar hasan qabool nahin karega to ham kahenge, ki rasool allaahﷺto hadiya kabool karate the, lekin yah kaisee aulaad hai jo ummat ka hadiya thukara detee hai,
bas imaam hasan razi allaahu taala anhu ko daavat dee gaee, aur yah baat pooree shaam mein phail gaee, imaam hasan razi allaah taala anhu ne daavat kubool kee, aur apane mubaarak qadam lie shaam kee taraph ravaana hue, yah khabar naalain (joote) banaane vaale ko pahunchee to usane socha main apanee taraph se allaah ke rasool shly allh ʿlyh wslm ke bete ko tohapha kya doon,? sochata raha bil aakhir usakee biwi ne kaha ek khoobasoorat naalain (joote) banao aur phir apane haathon se rasool allaah ke navaase ko pahanao, ham gareeb hamaaree aukaat kya, ham isase jyaada de hee kya sakate hain,
bas usane naalain (joote) banaana shuroo kar dee, aur imaam hasan razi allaahu taala anhu shaam shahar aa pahunche, tamaam log imaam hasan kee ziyaarat karane ke lie jama hone lage,
aur vah naalain (joote) banaane vaala naalain (joote) banaakar imaam hasan razi allaah taala anhu kee khidamat mein aaya,
aur dasteadab ko jodakar arz kiya navaasa e rasoolﷺmainne bade khulus aur pyaar se aap ke lie ye naalain (joote) taiyaar kee hai, mujh hakeer ka yah tohapha kubool karen,
imaam hasan ne faramaaya allaah niyat dekhata hai, tumhaara tohapha hamane kubool kiya,
jab vo jaane laga to imaam hasan ne faramaaya thaharo, mere saath chalo, vo naalain (joote) banaane vaala aur rasool allaahﷺka shahajaada hasan jab darabaare shaam pahunche to haakim e shaam ne imaam hasan razi allaahu taala anhu ke paas bahut saare heere aur bahut saare sone kee asharaphiya bhejee,aur ye kaha, yah mere taraph se aapako hadiya hai,
jo darabaar mein log the vah kahane lage, itane heere, itanee asharaphiya rasool ke bete ko, to haakim e shaam ne kaha duniya ko maaloom hona chaahie aboo suphiyaan ka beta kitana shakhee hai ke rasool allaah ke bete ko kya hadiya deta hai,
imaam hasan muskuraane lage, itane mein vo naalain (joote) banaane vaala kahata hai, maula ab mujhe izaajat den, imaam hasan ne faramaaya ai meree naalain (joote) banaane vaale, ye saare heere aur yah saare sone kee asharaphiya yah mainne is naalain (joote) banaane ke badale tumako hadiya kar dee,
vo naalain (joote) banaane vaala khushee khushee jaise hee vah asharaphiya uthaane lage, darabaar mein shor mach gaya ki itane heere itane sone kee asharaphiya sirph ek naalain (joote) banaane ke badale,!
to allaah ke rasool ke navaase hasan ibne alee ne faramaaya kaayanaat ko maaloom hona chaahie, ke rasool allaahﷺka navaasa kitana sakhee hai, jo apane naalain (joote) banaane vaale ko heere aur sone ke asharaphiya navaazata hai,
salaam ho rasool allaah ke navaase imaam alee va janaabe saiyada phaatima ka pharjand, imaam hasan ibne alee par, yah lekh achchha laga to laik sheyar kament jarur karen, aur apane doston ke saath sheyar bhee karen.
यह भी पढ़ें:-Kon sa insaan Allah ko behad pasand hai in Hindi, ह़ज़रत इमाम अली.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here