Home Motivational Articles

Keep house clean | Rat hone se pahle Ghar Ka kachra nikal do,in Hindi.

0

रिज़्क़ में बरकत क्यों नहीं होती? अक्सर लोगों की यह शिकायत होती है कि हमारे घरों में बरकत नहीं होती हम क्या करें? इसके कई वजह हो सकते हैं, और इस कई वजह में से आज एक वजह के बारे में बात करेंगे तो चलिए शुरू करते हैं.

एक परेशान औरत हजरत इमाम अली रज़ि अल्लाहु ताअला अन्हु के ख़िदमत में हाजिर हुई, और दस्तेअदब को जोड़कर अर्ज़ करने लगी, या अली! आपके पास हर परेशानी का हल है, और आपको अल्लाह ने यह ताक़त बक्शी है कि कौन से परेशानी किस वजह से आती है, ऐ मेरे इमाम मुझे यह बताएं, मेरे दो बच्चे और मेरा शौहर(पती) दिन रात कमाते रहते हैं फिर भी हमारे घर में कोई बरकत नहीं, ना कोई खुशी ना कोई सुकून एक बीमार शिफा पाता है तो दूसरा बीमार हो जाता है, घर के कोई एक चीज़ पूरी करते हैं तो दूसरी कम पड़ जाती है, ऐसा क्यों होता है?
बस यह कहना था तो इमाम अली रज़ि अल्लाहु ताअला अन्हु ने फ़रमाया ऐ औरत तुम्हारा चेहरा यह बयान करता है के तुम्हारे घर में रिज़्क़ के फरिश्ते नहीं आते,
तो वो कहने लगी या अली हम घर में अल्लाह का ज़िक्र भी करते हैं, नमाज़ का पाबंद भी है, फिर रिज़्क़ के फरिश्ते क्यों नहीं आते?

बात जब यहां तक पहुंची तो इमाम अली रज़ि अल्लाहु ताअला अन्हु ने फ़रमाया ऐ औरत, रात होने से पहले अपने घर से पूरे घर का कचरा एक जगह जमा करके ना रखना, बल्कि उसे अपने दहलीज से बाहर निकाल देना,
क्योंकि मैंने अल्लाह के रसूल ﷺ से सुना, जब रात अपने अंत को जाती है, और दिन करीब आने लगती है तो उस वक्त आसमान से रिज़्क़ के फरिश्ते ज़मीन के तरफ आते हैं, और मुख्तलिफ घरों में रिज़्क़ तक्सीम करते हैं, लेकिन जिस घर में नजासत या घर का कचरा एक जगह जमा होता है, तो उस घर की तरफ वो फरिश्ते रूख नहीं करते, और उस कचरे की वजह से उस घर में शैयातीन अपना अख्तियार रखते हैं, और युं उस घर से बरकत, सुकून, और शिफा चली जाती है.

यह भी पढ़ें:-Bhalai se pahle ye zarur sochna, hazrat imam Ali ne farmaya, in Hindi.

in English:
rizq mein barakat kyon nahin hotee? isake kaee vajah ho sakate hain, aur is kaee vajah mein se aaj ek vajah ke baare mein baat karenge to chalie shuroo karate hain.

ek pareshaan aurat hajarat imaam alee razi allaahu taala anhu ke khidamat mein haajir huee, aur dasteadab ko jodakar arz karane lagee, ya alee! aapake paas har pareshaanee ka hal hai, aur aapako allaah ne yah taaqat bakshee hai ki kaun se pareshaanee kis vajah se aatee hai, ai mere imaam mujhe yah bataen, mere do bachche aur mera shauhar(patee) din raat kamaate rahate hain phir bhee hamaare ghar mein koee barakat nahin, na koee khushee na koee sukoon ek beemaar shipha paata hai to doosara beemaar ho jaata hai, ghar ke koee ek cheez pooree karate hain to doosaree kam pad jaatee hai, aisa kyon hota hai? bas yah kahana tha to imaam alee razi allaahu taala anhu ne faramaaya ai aurat tumhaara chehara yah bayaan karata hai ke tumhaare ghar mein rizq ke pharishte nahin aate, to vo kahane lagee ya alee ham ghar mein allaah ka zikr bhee karate hain, namaaz ka paaband bhee hai, phir rizq ke pharishte kyon nahin aate?

baat jab yahaan tak pahunchee to imaam alee razi allaahu taala anhu ne faramaaya ai aurat, raat hone se pahale apane ghar se poore ghar ka kachara ek jagah jama karake na rakhana, balki use apane dahaleej se baahar nikaal dena, kyonki mainne allaah ke rasool shly allh ʿlyh wslm se suna, jab raat apane ant ko jaatee hai, aur din kareeb aane lagatee hai to us vakt aasamaan se rizq ke pharishte zameen ke taraph aate hain, aur mukhtaliph gharon mein rizq takseem karate hain, lekin jis ghar mein najaasat ya ghar ka kachara ek jagah jama hota hai, to us ghar kee taraph vo pharishte rookh nahin karate, aur us kachare kee vajah se us ghar mein shaiyaateen apana akhtiyaar rakhate hain, aur yun us ghar se barakat, sukoon, aur shipha chalee jaatee hai.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here