Home हीन्दी कहानीयां khargosh aur Kachua ka motivational kahani in hindi खरगोश और कछुआ.

khargosh aur Kachua ka motivational kahani in hindi खरगोश और कछुआ.

245
0

khargosh aur Kachua ka motivational kahani in hindi खरगोश और कछुआ.

khargosh aur Kachua ka motivational kahani खरगोश और कछुआ.

एक समय की बात है एक जंगल में कछुआ धीरे धीरे चल रहा था.दूर से खरगोश देखा और तेजी से उसके पास गया,और हंसता हुआ कहने लगा कितना यह धीरे चलता है, इसके पांव में तो ताक़त ही नहीं.

खरगोश कछुए क़रीब आकर मज़ाक उड़ा कर कहने लगा मुझसे रेस लगाओगे.(Let me race.)

कछुआ ने अपने नज़र उठा कर देखा और कहा हां हां क्यों नहीं, खरगोश ने कहा ठीक है, यह दूर  पहाड़ देख रहे हो?
जो पहले पहुंच गया वह जीत गया.
खरगोश ने कहा मुझे यकीन है तुम ज़रुर हारोगे.

कछुआ ने कहा अगर अल्लाह ने चाहा तो मैं ज़रूर जीतूंगा,बस खरगोश तेज़ी से भागता गया.

और कछुआ धीरे धीरे चलता रहा खरगोश भागते भागते बहुत आगे निकल गया फिर खरगोश ने सोचा मैं तो बहुत आगे निकल गया हूं.और कछुआ तो बहुत दूर है ऐसा करता हूं थोड़ा सा आराम कर लेता हूं, फिर आगे निकल जाऊंगा.

बस यह कहकर वह लेट गया और उसकी आंख लग गई लेकिन वह कछुआ जो मेहनत और यकीन के साथ आगे बढ़ रहा था बढ़ता रहा बढ़ता रहा यहां तक की पहाड़ी तक पहुंच गया.khargosh aur Kachua ka motivational kahani in hindi खरगोश और कछुआ.

इतने देर में खरगोश की आंखें खुली उसने इधर उधर देखा और कहां मुझे तो बहुत देर हो गई जैसे ही तेज़ तेज़ दौड़ता पहाड़ पर पहुंचे तो क्या देखा कछुआ जीतकर मुस्कुरा रहा था.

और खरगोश शर्मसार होकर रोने लगा.khargosh aur Kachua ka motivational kahani in hindi खरगोश और कछुआ.

जिंदगी में भी जो लोग दूसरों को कम समझते हैं, और मेहनत नहीं करते दूसरों का मज़ाक उड़ाते हैं वह कभी भी मंजिल तक नहीं पहुंचते,और जो लोग अल्लाह पर यकीन कर के मेहनत मुसलसल करते रहते हैं अल्लाह कभी उनको मंजिल से महरूम नहीं करता.

यह लेख अच्छा लगा तो लाइक शेयर कमेंट ज़रुर
करें और अपने दोस्तों के साथ शेयर भी करें.thank you

यह भी पढ़ें:मक्खी को कब और क्यों पैदा किया गया|When and why the fly was born in hindi.

Guest Post

2+4=

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here