Home Motivational Articles Kisi ke Dil todane ki saza Kiya hai punishment|heart breaking,in Hindi

Kisi ke Dil todane ki saza Kiya hai punishment|heart breaking,in Hindi

0

Kisi ke Dil todane ki saza Kiya hai punishment|heart breaking,in Hindi.

ह़ज़रत इमाम अली रज़ि अल्लाहु ताअला अन्हु के ख़िदमत में एक शख्स आया, और दस्तेअदब को जोड़कर अर्ज़ करने लगा या अली, हर गुनाह की कयामत के दीन अल्लाह ने कोई न कोई सजा रखी है, लेकिन किसी के दिल तोड़ने वालों के लिए अल्लाह ने क्या सजा रखी है,
बस यह कहना था तो इमाम अली रज़ि अल्लाहु ताअला अन्हु ने फ़रमाया, ऐ शख्स रोजे मेहशर अल्लाह जो सजा “कत्ल करने वाले को देगा, वहीं सजा किसी का दिल तोड़ने वाले को देगा,”
तो उसने कहा या अली दिल तोड़ना, और कत्ल करना दोनों की सजा बराबर वो क्यों?
बात जब यहां तक पहुंची, तो इमाम अली रज़ि अल्लाहु ताअला अन्हु ने फ़रमाया ऐ शख्स याद रखना “किसी को कत्ल करने से इंसान का जिस्म मर जाता है, और किसी का दिल तोड़ने से इंसान की रूह को वो सदमा पहुंचता है, ना वो मर सकता है और ना जी सकता है,”
तभी अल्लाह ने रोजे मैहशर इस बदतरीन गुनाह की सजा यह रखी के उसकी सारी नेकियां खत्म की जाएगी, और उसके मुकद्दर में दोज़ख(hell) को लिख दिया जाएगा, और यह कहा जाएगा, दुनियावी जिंदगी में बदतरीन गुनाह “किसी का दिल तोड़ना है,”
यह लेख अच्छा लगा तो लाइक शेयर कमेंट जरुर करें, और अपने दोस्तों के साथ शेयर भी करें.

In English:

hazarat imaam alee razi allaahu taala anhu ke khidamat mein ek shakhs aaya, aur dasteadab ko jodakar arz karane laga ya alee, har gunaah kee kayaamat ke deen allaah ne koee na koee saza rakhee hai, lekin kisee ke dil todane vaalon ke lie allaah ne kya saja rakhee hai,
bas yah kahana tha to imaam alee razi allaahu taala anhu ne faramaaya, ai shakhs roje mehashar allaah jo saja “katl karane vaale ko dega, vaheen saza kisee ka dil todane vaale ko dega,” to usane kaha ya alee dil todana, aur katl karana donon kee saja baraabar vo kyon?
baat jab yahaan tak pahunchee, to imaam alee razi allaahu taala anhu ne faramaaya ai shakhs yaad rakhana “kisee ko katl karane se insaan ka jism mar jaata hai, aur kisee ka dil todane se insaan kee rooh ko vo sadama pahunchata hai, na vo mar sakata hai aur na jee sakata hai,”
tabhee allaah ne roje maihashar is badatareen gunaah kee saja yah rakhee ke usakee saaree nekiyaan khatm kee jaegee, aur usake mukaddar mein dozakh(haill) ko likh diya jaega, aur yah kaha jaega, duniyaavee jindagee mein badatareen gunaah “kisee ka dil todana hai,”
yah lekh achchha laga to laik sheyar kament jarur karen, aur apane doston ke saath sheyar bhee karen.
यह भी पढ़ें:-What is the identity of Sharif man in Hindi,शरीफ इंसान की पहचान क्या है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here