Home MOTIVATIONAL QUOTES Motivation Quotes| Hazrat Ali Sayings in Hindi हज़रत अली के अनमोल वचन.

Motivation Quotes| Hazrat Ali Sayings in Hindi हज़रत अली के अनमोल वचन.

0

Motivation Quotes| Hazrat Ali Sayings in Hindi हज़रत अली के अनमोल वचन.

एक शख्स ह़ज़रत अली रज़ि अल्लाहु ताअला अन्हु के ख़िदमत में आया और दस्तेअदब को जोड़कर अर्ज़ करने लगा, या अली दोस्त और भाई में क्या फर्क है? ह़ज़रत अली रज़ि अल्लाहु ताअला अन्हु ने फ़रमाया ऐ शख्स “भाई सोना है, और दोस्त हीरा है”
उस शख्स ने कहा या अली “आप ने भाई को कम क़ीमत और दोस्त को ज़्यादा क़ीमती चीज़ से क्यू तशबीह दी? तो हज़रत अली ने फ़रमाया ऐ शख्स, “सोने में दरार आ जाये तोउस को पिघला कर बिलकुल पहले जैसा बनाया जा सकता है. जब की हीरे में एक दरार भी आ जाये तो वो कभी भी पहले जैसा नही बन सकता.
ह़ज़रत इमाम अली रज़ि अल्लाहु ताअला अन्हु ने फ़रमाया, नेक लोगों की सोहबत से हमेशा भलाई ही मिलती है, क्योंके हवा जब फूलो से गुज़रती है तो वो भी खुश्बुदार हो जाती है.
ह़ज़रत इमाम अली रज़ि अल्लाहु ताअला अन्हु ने फ़रमाया, “अपने जिस्म को ज़रूरत से ज़्यादा न सवारों,क्योंकि इसे तो मिट्टी में मिल जाना है,सवॉरना है तो अपनी रूह को सवॉरों क्योंकि इसे तुम्हारे रब के पास जाना है”.
एक शख्स ह़ज़रत अली रज़ि अल्लाहु ताअला अन्हु के ख़िदमत में आया और दस्तेअदब को जोड़कर अर्ज़ करने लगा, या अली जिनकी माँ नही होती उनके बच्चों को दुआ कौन देता है? आप फ़रमाया के कोई झील अगर सुख भी जाए तो मिट्टी से नमी नही जाती, इसी तरह माँ के इन्तेकाल के बाद भी अपनी औलाद को दुआ देती रहती है.
ह़ज़रत इमाम अली रज़ि अल्लाहु ताअला अन्हु ने फ़रमाया, जब गुनाह के बावजूद अल्लाह की नेअमते मुसलसल तुझे मिलती रहे तो तु होशियार हो जाना के तेरा हिसाब करिब और सख्त तरिन है हज़रत अली.
ह़ज़रत इमाम अली रज़ि अल्लाहु ताअला अन्हु ने फ़रमाया, तुम जो एक गाली मज़ाक और गुस्से में देते है उससे तुम्हारी कब्र में एक उससे बनता है.
ह़ज़रत इमाम अली रज़ि अल्लाहु ताअला अन्हु ने फ़रमाया, अगर कोई शख्स अपनी भूख मिटाने के लिए रोटी चोरी करे तो चोर के हाथ काटने के बजाए बादशाह के हाँथ काटे जाए.
ह़ज़रत इमाम अली रज़ि अल्लाहु ताअला अन्हु ने फ़रमाया, “जो लोग सिर्फ तुम्हे काम के वक़्त याद करते हे उन लोगो के काम ज़रूर आओ क्यों के वो अंधेरो में रौशनी ढूँढ़ते हे और वो रौशनी तुम हो”
“हमेशा समझोता करना सीखो क्यूंकि थोडा सा झुक जाना किसी रिश्ते का हमेशा के लिए टूट जाने से बेहतर है”
“एक ज़माना ऐसा भी आएगा कि लोग अपने रब को भुल जाएंगे,लिबास बहुत क़ीमती पहन कर बज़ार में अकड़ कर चलेंगे और इस बात से बेखबर होंगे के उसी बाज़ार में उन का कफन मौजूद है”
“जाहिल के सामने अक़्ल की बात मत करो पहले वो बहस करेगा फिर अपनी हार देखकर दुश्मन हो जायेगा.”
“जब नेमतों पर शुक्र अदा किया जाए तो वह कभी ख़त्म नही होती”
“कोई गुनाह लज्जत के लिए मत करना क्यो की लज्जत खत्म गुनाह बाकी रहेगा और कोई नेकी तकलीफ की वजह से मत छोड ना क्यो की तखलीफ खत्म हो जायेगी पर नेकी बाकी रहेगी”
“हमेशा ज़लिमो का दुश्मन और मज़लूमो का मददगार बन कर रहना”
“दुनिया अमल की जगह है, मौत के बाद हम को और तुम्हे पता चलेगा”
In English:
ek shakhs hazarat ali razi allaahu taala anhu ke khidamat mein aaya aur dasteadab ko jodakar arz karane laga, ya alee dost aur bhaee mein kya phark hai? hazarat alee razi allaahu taala anhu ne faramaaya ai shakhs “bhaee sona hai, aur dost heera hai” us shakhs ne kaha ya alee “aap ne bhaee ko kam qeemat aur dost ko zyaada qeematee cheez se kyoo tashabeeh dee? to hazarat alee ne faramaaya “sone mein daraar aa jaaye tous ko pighala kar bilakul pahale jaisa banaaya ja sakata hai. jab kee heere mein ek daraar bhee aa jaaye to vo kabhee bhee pahale jaisa nahee ban sakata.
hazarat imaam ali razi allaahu taala anhu ne faramaaya, nek logon kee sohabat se hamesha bhalaee hee milatee hai, kyonke hava jab phoolo se guzaratee hai to vo bhee khushbudaar ho jaatee hai.
hazarat imaam ali razi allaahu taala anhu ne faramaaya, “apane jism ko zaroorat se zyaada na savaaron,kyonki ise to mittee mein mil jaana hai,savorana hai to apanee rooh ko savoron kyonki ise tumhaare rab ke paas jaana hai”.
ek shakhs hazarat ali razi allaahu taala anhu ke khidamat mein aaya aur dasteadab ko jodakar arz karane laga, ya alee jinakee maan nahee hotee unake bachchon ko dua kaun deta hai? aap faramaaya ke koee jheel agar sukh bhee jae to mittee se namee nahee jaatee, isee tarah maan ke intekaal ke baad bhee apanee aulaad ko dua detee rahatee hai.
hazarat imaam ali razi allaahu taala anhu ne faramaaya, jab gunaah ke baavajood allaah kee neamate musalasal tujhe milatee rahe to tu hoshiyaar ho jaana ke tera hisaab karib aur sakht tarin hai hazarat alee.
hazarat imaam ali razi allaahu taala anhu ne faramaaya, tum jo ek gaalee mazaak aur gusse mein dete hai usase tumhaaree kabr mein ek usase banata hai.
hazarat imaam ali razi allaahu taala anhu ne faramaaya, agar koee shakhs apanee bhookh mitaane ke lie rotee choree kare to chor ke haath kaatane ke bajae baadashaah ke haanth kaate jae. hazarat alee hazarat imaam alee razi allaahu taala anhu ne faramaaya,
“jo log sirph tumhe kaam ke vaqt yaad karate he un logo ke kaam zaroor aao kyon ke vo andhero mein raushanee dhoondhate he aur vo raushanee tum ho”
“hamesha samajhota karana seekho kyoonki thoda sa jhuk jaana kisee rishte ka hamesha ke lie toot jaane se behatar hai”
“ek zamaana aisa bhee aaega ki log apane rab ko bhul jaenge,libaas bahut qeematee pahan kar bazaar mein akad kar chalenge aur is baat se bekhabar honge ke usee baazaar mein un ka kaphan maujood hai”
“jaahil ke saamane aql kee baat mat karo pahale vo bahas karega phir apanee haar dekhakar dushman ho jaayega hazarat alee.”
“jab nematon par shukr ada kiya jae to vah kabhee khatm nahee hotee”
“koee gunaah lajjat ke lie mat karana kyo kee lajjat khatm gunaah baakee rahega aur koee nekee takaleeph kee vajah se mat chhod na kyo kee takhaleeph khatm ho jaayegee par nekee baakee rahegee”
“hamesha zalimo ka dushman aur mazaloomo ka madadagaar ban kar rahana”
“duniya amal kee jagah hai, maut ke baad ham ko aur tumhe pata chalega”
read more:-बेवफा दोस्त को कैसे पहचानें|ह़ज़रत अली|How to Identify An Unfair Friend in hindi.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here