Home QUOTES

Sabr Kiya hai | allaah Kisko pasand karta hain | by imam Ali.

0

इमाम अली रज़ि अल्लाहु ताअला अन्हु की ख़िदमत में एक शख्स आया और दस्तेअदब को जोड़कर अर्ज करने लगा या अली!
सब्र की कितनी सूरते हैं, और वह कौन सा सब्र है जो अल्लाह को पसंद है,
बस यह कहना था तो इमाम अली ने फ़रमाया,
ऐ शख्स याद रखना सब्र की दो सूरते अल्लाह को बेइंतेहा पसंद है तो वो कहने लगा या अली वह कौन सी दो सूरतें हैं? तो इमाम अली रज़ि अल्लाहु ताअला अन्हु ने फ़रमाया पहली सूरत जो ना पसंद हो उसको बर्दाश्त करना, और दूसरी सूरत जो पसंद हो उसका इंतजार करना,
ऐ शख्स याद रखना जो अल्लाह का बंदा, इन दो सूरतों पर सब्र करता है, अल्लाह उसको अपने करीब रखता है, अपना पसंदीदा बंदा बनाता है.

यह लेख अच्छा लगा तो लाइक शेयर कमेंट जरुर करें, और अपने दोस्तों के साथ शेयर भी करें.

imaam Ali razi allaahu taala anhu kee khidamat mein ek shakhs aaya aur dasteadab ko jodakar arj karane laga ya alee!
sabr ki kitani surate’n hain, aur woh kaun sa sabr hai jo allaah ko pasand hai,
bas yah kahana tha to imaam Ali ne farmaya, ai shakhs yaad rakhana sabr ki do surate’n allaah ko beinteha pasand hai,
to vo kahane laga ya alee vah kaun see do suraten hain? to imaam ali razi allaahu taala anhu ne faramaaya pahali soorat “jo na pasand ho usako bardaasht karana, aur doosaree soorat jo pasand ho usaka intajaar karana”
ai shakhs yaad rakhana, jo allaah ka banda, in do sooraton par sabr karata hai, allaah usako apane kareeb rakhata hai, apana pasandeeda banda banaata hai.

read more:-Imam Musa A Kazim Aur Bhukha Sher, ijzat Aur jillat Allah ke haath hai

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here