Home Motivational Articles

Sache aur jhute dost ki Pehchan, in Hindi | hazrat imam Ali as says.

37
0

Sache aur jhute dost ki Pehchan, in Hindi | hazrat imam Ali as says.

इमाम अली रज़ि अल्लाहु ताअला अन्हु के ख़िदमत में एक शख्स आया, और दस्तेअदब को जोड़कर अर्ज़ करने लगा, या अली! हमारे साथ, हमारे कई दोस्त बैठे हुए होते हैं, हमें यह मालूम कैसे हो कि कौन सच्चा दोस्त है, और कौन झूठा?

बस यह कहना था तो इमाम अली रज़ि अल्लाहु ताअला अन्हु ने फ़रमाया, ऐ शख्स याद रखना, दोस्त इंसान की उस सिफत को कहते हैं, जो इंसान के वजूद का हिस्सा हो,
देखो जो चीज इंसान के अपने वजूद से ताल्लुक रखती है, उसको वो अपना समझता है,

अगर आज तुम्हारे माथे पर मिट्टी लग जाए तो तुम बगैर सोचे बगैर डरे अपने माथे की मिट्टी साफ करोगे,
तुम्हारे बालों में अगर कोई नजासत आ जाए तो तुम बगैर डरे फौरन वह साफ करोगे,

वैसे ही एक सच्चा दोस्त आइने की मिसल होता है, दोस्त कदम कदम पर हर एक ऐब (गलती) इंसान को बताता रहता है, हर एक खामी,हर एक गलती से इंसान को वाकिफ करवाता रहता है,

जो इंसान तुम्हारी ऐब (गलती) तन्हाई में तुम्हें बताता रहे, तुम्हारी इसलाह(समझना) के लिए बार-बार कोशिशें से करता रहे, तो समझ जाना यह मेरा सच्चा दोस्त हैं,

लेकिन अगर जो इंसान तुम्हारे साथ रहे, और कभी भी तुम्हारी इसलाह (समझाना) करने की कोशिश ना करें, तो समझ जाना यह तुम्हारे साथ तो है, लेकिन तुम्हारा सच्चा दोस्त नहीं,

यह लेख अच्छा लगा तो लाइक शेयर कमेंट जरुर करें, और अपने दोस्तों के साथ शेयर भी करें.

यह भी पढ़ें:-Best Motivational Quotes in Hindi,जितने का सबसे ज्यादा मजा तब आता है,

In English:
imaam alee razi allaahu taala anhu ke khidamat mein ek shakhs aaya, aur dasteadab ko jodakar arz karane laga, ya alee! hamaare saath, hamaare kaee dost baithe hue hote hain, hamen yah maaloom kaise ho ki kaun sachcha dost hai, aur kaun jhootha?

bas yah kahana tha to imaam alee razi allaahu taala anhu ne faramaaya, ai shakhs yaad rakhana, dost insaan kee us siphat ko kahate hain, jo insaan ke vajood ka hissa ho, dekho jo cheej insaan ke apane vajood se taalluk rakhatee hai, usako vo apana samajhata hai,

agar aaj tumhaare maathe par mittee lag jae to tum bagair soche bagair dare apane maathe kee mittee saaph karoge, tumhaare baalon mein agar koee najaasat aa jae to tum bagair dare phauran vah saaph karoge,

vaise hee ek sachcha dost aaine kee misal hota hai, dost kadam kadam par har ek aib (galatee) insaan ko bataata rahata hai, har ek khaamee,har ek galatee se insaan ko vaakiph karavaata rahata hai,

jo insaan tumhaaree aib (galatee) tanhaee mein tumhen bataata rahe, tumhaaree isalaah(samajhana) ke lie baar-baar koshishen se karata rahe, to samajh jaana yah mera sachcha dost hain,

lekin agar jo insaan tumhaare saath rahe, aur kabhee bhee tumhaaree isalaah (samajhaana) karane kee koshish na karen, to samajh jaana yah tumhaare saath to hai, lekin tumhaara sachcha dost nahin,

yah lekh achchha laga to laik sheyar kament jarur karen, aur apane doston ke saath sheyar bhee karen.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here