Home Health Simple and easy ways to increase metabolism, in Hindi – मेटाबोलिज्म

Simple and easy ways to increase metabolism, in Hindi – मेटाबोलिज्म

0

मेटाबोलिज्म बढ़ाने के सरल और आसान तरीके

मैंने पिछले कुछ वर्षों में स्वस्थ जीवनशैली के बारे में अच्छा ज्ञान प्राप्त किया है। मैं सुबह बिस्तर से उठने के बाद जो चीजें करती हूं, वे बहुत विशिष्ट हैं क्योंकि मुझे पता है कि वे उस दिन मेरे स्वास्थ्य और रात की नींद की गुणवत्ता में सुधार करने के लिए पर्याप्त हैं। हाल ही में, मैंने अपनी सुबह की दिनचर्या में अपनी एनर्जी और फ़ोकस को बढ़ाने के लिए कुछ छोटे छोटे परिवर्तन किये हैं और यहाँ में आपको ये बता दूँ कि इन परिवर्तनों के कारण मेरे मेटाबॉलिक फंक्शन में भी सुधार हुआ है। इन परिवर्तनों में से ज्यादातर सर्कैडियन रिदम से किसी तरह से संबंधित हैं, जिसे हमारे शरीर की बॉडी क्लॉक (बॉडी क्लॉक से हमारे शरीर की जैविक क्रियाओं का पता चलता है) के रूप में भी जाना जाता है, जो आपके समग्र स्वास्थ्य के लिए अविश्वसनीय रूप से महत्वपूर्ण है । क्या आप जानते हैं कि हमारी हर एक कोशिका में एक सर्कैडियन घड़ी होती है? हाँ, यह सच है। और इसका मतलब है कि आपके जागने के लिए, सोने के लिए और यहां तक कि अपने भोजन को पचाने के लिए। यदि आप अपना मेटाबोलिक रेट और एनर्जी बढ़ाना चाहते हैं तो सुबह उठने के बाद इन अभ्यासों को करें, कुछ ही दिनों में आप अपने ऊर्जा स्तर, संतुलित हार्मोन और मेटाबोलिज्म में बेहतर परिवर्तन देखेंगे। तो आइये जानते हैं किन किन तरीकों से मेटाबोलिज्म को बढ़ाया जा सकता है –

करीबन 13 -16 घण्टों के लिए उपवास (इंटरमिटेंट फास्टिंग)

इसमें कोई संदेह नहीं है कि आज दुनिया में इंटरमिटेंट फास्टिंग मेटाबोलिज्म बढ़ाने वाली दवाई बन चुकी है। यदि इन्सुलिन लेवल को कम कर लिया जाये तो तो ब्लड प्रेशर को सुधारा जा सकता है, हार्ट से सम्बंधित बिमारियों को कम किया जा सकता है, और सही से फैट डिस्ट्रीब्यूशन किया जा सकता है। जब आप अपने सर्कैडियन रिदम के साथ इंटरमिटेंट फास्टिंग करते हैं, तो इसका मतलब यह होता है कि आपको अपना रात का भोजन शाम को 6 बजे से पहले खत्म करना होगा, फिर 13 से 16 घंटे तक उपवास करना होगा और फिर 7:30 या 8:30 के आसपास फिर से अच्छे से भोजन करें। यदि आपका एनर्जी लेवल डाउन न हो तो कोशिश कीजिये की सप्ताह में कम से कम 2 बार यह उपवास 16 घंटे तक करें।

जल्दी सोने का प्रयास करें

यदि आप अपने सोने और जागने के समय को सही से बनाये रखते हैं तो यह आपके मेटाबोलिज्म के लिए बहुत ही अच्छा संकेत है। यदि आप ऐसा नहीं करते हैं तो इसको अपनी दिनचर्या में शामिल करें और इसकी आदत बनाएं। सामन्यतः मैं, रात को 10 बजे सो जाती हूँ और प्रातः 6 बजे जाग जाती हूँ। ऐसा नहीं है कि जल्दी सोने और जागने से केवल मेटाबोलिज्म बूस्ट (Metabolism Meaning in Hindi) होता है, इसके साथ ही इससे हमारी त्वचा की गुणवत्ता में भी सुधार होता है, क्योंकि त्वचा की मरम्मत मुख्य रूप से रात के घंटों के दौरान होती है। शायद आपको ज्ञात न हो, रात को यदि आप 10 बजे सो जाते हैं तो सोने के लगभग एक घंटे बाद आपको मानव विकास हार्मोन की एक बड़ी रिहाई मिलती है।

जितना हो सके सुबह – सुबह सूर्य की रौशनी भरपूर मात्रा में लें

रात्रि में जल्दी सोना और उपवास रखना अच्छी आदतें हैं परन्तु मेटाबोलिज्म को बढ़ाने के लिए इतना काफी नहीं है, इसके अलावा प्रतिदिन सुबह को 10 बजे से पहले कुछ समय के लिए सूर्य की रौशनी लेना अत्यंत आवश्यक है।इसके लिए में प्रतिदिन अपने आँगन में जाकर कुछ समय योग और व्यायाम करके कुछ समय के लिए सूर्य की रौशनी लेती हूँ। सूर्य की रौशनी को सीधे प्राप्त करना मेलाटोनिन को रीसेट करने के लिए आपकी आंख में रेटिना के माध्यम से संकेत भेजता है। इससे न केवल शाम को आपकी नींद में मदद करता है, बल्कि यह आपकी ऊर्जा के स्तर में भी सुधार करता है।

ग्राउंडिंग

ऐसा खा जाता है कि जंगल में स्नान और हरियाली या बड़े पार्क के पास रहने के बहुत सारे लाभ हैं और इनकी वर्षों से प्रशंसा हो रही है। इसमें किसी प्रकार का कोई संदेह नहीं है कि, प्रकृति आपके स्वास्थ्य के लिए अच्छी होती है। इसलिए बोनस के रूप में, मैं हर सुबह घास पर नंगे पांव जाना पसंद करती हूं। यह न केवल ग्राउंडिंग उद्देश्यों के लिए है, बल्कि मेरे माइक्रोबायोम को बेहतर बनाने के लिए और कुछ अच्छे त्वचा बैक्टीरिया प्राप्त करने के लिए बहुत ही लाभकारी होती है।

इन सभी तरीकों को करने में आपके दिन के पांच मिनट से भी कम समय लगेगा और ये सभी अत्यंत लाभदायक भी हैं। एक सप्ताह के लिए इन सभी तरीकों को आज़माएं और देखें कि आप कितना अच्छा महसूस करते हैं और आपके मेटाबोलिज्म स्तर में सुधार आएगा; आपका दीर्घकालिक स्वास्थ्य आपको धन्यवाद देगा!

Read More: जानिए कैसे एवोकाडो आपके पाचन तंत्र को सही से चलाने में मदद करता है ?

About The Author:

Mahima is a freelance writer and expert in health, fitness, beauty, and fashion. When she isn’t writing she can usually be found reading a good book