Upset guy|यह परेशानी इंसान पर हावी क्यों होता है|परेशान क्यों होता है.

66
1

यह परेशानी इंसान पर हावी क्यों होता है|परेशान क्यों होता है, in hindi.

एक मर्तबा एक शख्स ह़ज़रत इमाम अली रज़ि अल्लाहु ताअला अन्हु के खिदमत में आया, और दस्तेअदब को जोड़कर अर्ज़ करने लगा “या अली यह परेशानी इंसान पर हावी क्यों होता है” (Upset guy)
बस यह कहना था तो इमाम अली रज़ि अल्लाहु ताअला अन्हु ने फ़रमाया ऐ शख्स “इंसान के परेशानी इंसान खुद ही बढ़ाता है,”
और उस परेशानी का खालीक इंसान का अपना दिमाग है, तो उसने कहा या अली “क्या परेशानी खुद इंसान बनाता है” वो कैसे?
इमाम अली रज़ि अल्लाहु ताअला अन्हु ने फ़रमाया ऐ शख्स “जिंदगी का असल नाम इम्तिहान है”
लेकिन अफसोस तो यह है इंसान अपने तकलीफ और दुख को बार-बार याद करते करते अपने आपको परेशान कर लेते हैं.
अगर इंसान अपने वजूद में, ये यकीन पैदा करें कि मेरे साथ मेरा खालीक़ है, वो मुझे तन्हा नहीं करेगा.
तो इंसान का यह यकीन इंसान को कभी परेशानी नहीं देंगा.
और अल्लाह ने इंसान के दिमाग में एक ताकत बख्शी है जिसको कुव्वते वादाम कहते हैं.
जब इंसान अपनी छोटी मामूली खुशी हासिल करता है तब इंसान का दिमाग इंसान के वजूद को एक तोहफा देता है, और उस तोफे को सुकून कहते हैं.
ऐ शख्स याद रखना “बड़ी-बड़ी खुशियां तब पूरी होगी जब अल्लाह चाहेगा” क्योंकि वो तो तुम्हारे इम्तिहान है, लेकिन इंसान परेशान तब होता है जब वो “छोटी-छोटी खुशियों को बड़ी-बड़ी खुशियों की फिक्र में खत्म कर दे”
जो इंसान हजारों तकलीफों के बाद भी अपने आपको छोटी-छोटी मामूली खुशियों में मसरूफ रखता है, तो उसके बड़े बड़े मसाईल भी कभी उसको परेशान नहीं करते.
यह लेख अच्छा लगा तो लाइक शेयर कमेंट जरुर करें. और अपने दोस्तों के साथ शेयर भी करें.
यह भी पढ़ें:-Top 10 Highest Mountains in the World in Hindi विश्व की सबसे ऊंची चोटियां

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here