Education

अपनी ज़िंदगी में सफल होने के लिए कीस तरह डिसीजन लें, ताकि हम अच्छे से कामयाब हो सकें?

अपनी ज़िंदगी में सफल होने के लिए कीस तरह डिसीजन लें, ताकि हम अच्छे से कामयाब हो सकें?

तो आज हम इस लेख में बात करेंगे कि इस जीवन में सफल होने के लिए कीस तरह डिसीजन लें, ताकि हम अच्छे से कामयाब हो सकें,तो चलिए शुरू करते हैं.

हमेशा अपने हिसाब से जियो लोगों का क्या उनकी सोंच तो हमेशा समय और हालात के हिसाब से बदलती रहती है.

अक्सर हम कोई भी काम करने से पहले लोगों के बारे में सोचते हैं, की लोग क्या कहेंगे,हम अपने डिसीजन लोगों को ध्यान में रखते हुए करते हैं.

लेकिन आज हम आपसे एक बात कहना चाहेंगे. हमेशा अपने हिसाब से सोचो और अपने हिसाब से जियो.लोग समय और हालात के हिसाब से तब्दील होते रहते हैं.

अगर चाय में मक्खी गिर जाए तो लोग चाय को फेंक देते हैं, और अगर यही मक्खी देशी घी में गिर जाए तो लोग घी को नहीं बल्कि मक्खी को निकाल कर फेंकते हैं.

यही जिंदगी की हकीकत है बहुत से लोग सारी जिंदगी लोगों की परवाह करते हैं. जब इन्हें दूसरों की ज़रूरत होती है,तो यही दूसरे लोग इन्हें पीठ दिखा कर भाग जाते हैं, या खड़े खड़े तमाशा देखते हैं.

फिर ऐसे लोगों का क्या फायदा जो समय आने पर हमारे साथ ना दें. ऐसे लोगों के लिए अपने समय अपनी जिंदगी बर्बाद करने से क्या फायदा.

एक बात जान लो अगर गलती से भी अपनी जिंदगी में सफल ना हो सको तो ऐसे लोग आपके लिए कुछ नहीं करने वाले?

अगर आप अपने डिसीजन लेते हुए बगैर किसी की परवाह किए हुए, जिंदगी मेंं सफल हो जाते हैं. तो आप चाहे जितना भी ऐसे लोगों को दुत्कार दो, फिर भी वह आपके पास भागते हुए आएंगे,
यही दुनिया की नज़रिया है.

आप लाख अच्छे काम कर लो और एक गलत काम कर लो तो आपके सारे अच्छे काम बेकार हो जाएंगे, और उस एक गलती के लिए आपके खिलाफ हो जाएंगे.और आपके टांग खींचने का एक भी मौका नहीं छोड़ेंगे.

और जो अच्छे वक्त में आपके खास बनकर बैठा हुआ है,वही बुरे वक्त में आपके खिलाफ हो जाएंगे. जिसे आज अपना बहुत खास दोस्त कहते होंगे. हो सकता है वही कल को आपका सबसे बड़ा दुश्मन हो जाए.

इसीलिए अपने डिसीजन कभी भी दूसरों के बारे में सोचकर न लें. हमेशा जो आपके लिए अच्छा लगे और बेहतर हो वही डिसीजन लें.

और एक बात हमेशा याद रखें कि आपके इस डिसीजन लेने की वजह से किसी का नुकसान न होने पाए?

बाकी आप जो भी डिसीजन लेंगे, उस से अक्सर कुछ लोग खुश होंगे तो कुछ नाराज भी होंगे.

इसलिए यह परवाह करना छोड़ दीजिए कि दुनिया आपके बारे में क्या सोचेगी. अपने डिसीजन अपने दम पर लें. तो दोस्तों आगे से कोई भी डिसीजन ले तो सोच समझकर लें.

दोस्तों यह लेख अच्छा लगा तो.

लाइक शेयर और कमेंट भी करें?

Read,

ये भी पढ़ सकते हैं? अपने गुस्से को ताकत बनाओ कमजोरी नहीं,ताकि तुम्हारी मंजिल तुम्हें मिल जाए.

Related Articles

175 Comments

  1. When someone writes an paragraph he/she maintains the plan of a user in his/her brain that how
    a user can understand it. So that’s why this paragraph
    is amazing. Thanks!

  2. Aw, this was an incredibly nice post. Finding the time and actual effort to create a top notch article…
    but what can I say… I hesitate a lot and don’t manage to get nearly anything done.

Back to top button