Bewafa husband ki pahchan.in hindi बेवफा शौहर(पती) की पहचान.

0

Bewafa husband ki pahchan बेवफाशौहर(पती/husband) की पहचान in hindi.

एक मर्तबा एक शख्स ह़ज़रत इमाम अली रज़ि अल्लाहु ताअला अन्हु के खिदमत में आया और दस्तेअदब को जोड़कर अर्ज़ करने लगा, या अली मेरी बच्ची के लिए दो रिश्ते आए हैं, और मै इनमें मालूम कैसे करूं कि इन दोनों में ज्यादा बेहतर शौहर मेरी बेटी के लिए कौन साबित होगा.
जब यह कहना था तो इमाम अली रज़ि अल्लाहु ताअला अन्हु ने फ़रमाया ऐ शख्स याद रखना तुम्हारी बेटी के लिए वह इंसान बेहतर है जिसकी वजूद में यह तीन खराबियां न हो.
उस शख्स ने कहा या अली, कैसी खराबियां?
पहली खराबी अपने से कम लोगों को बेइज़्ज़त न करता हो, कमतर न समझता हो, वरना आने वाले वक्त में वह तुम्हारी बेटी को भी हकीर(कमतर)समझेगा,
दूसरा खराबी अपनी ज़ुबान से अपनी तारीफ बार-बार न करता हो, क्योंकि जो इंसान अपनी तारीफ खुद बार-बार करता है, यानी वो खुद को बेइंतेहा पसंद करता है.
और खुद को वही ज्यादा पसंद करता है जो दूसरों को नापसंद करता है.
तीसरा खराबी वो झूठ न बोलता हो जो अपनी हकीकत, अपना हालात, अपना काम झूठ से लेता हो, तो यकीन समझो वो रिश्ता भी झूठ की बुनियाद पर निभाएगा.
यह लेख अच्छा लगा तो लाइक शेयर कमेंट जरुर करें. और अपने दोस्तों के साथ शेयर भी करें.
यह भी पढ़ें:-When and why did apple become nazil in hindi|सेब कब और क्यों नाज़िल हुआ.