Janiye pareshani khatm kaise Karen,In Hindi,जानिए परेशानी खत्म कैसे करें

0

Janiye pareshani khatm kaise Karen,In Hindi,जानिए परेशानी खत्म कैसे करें.

इमाम अली रज़ि अल्लाहु ताअला अन्हु के ख़िदमत में एक शख्स आया, और दस्तेअदब को जोड़कर अर्ज़ करने लगा या अली! मैं अपनी परेशानी खत्म करना चाहता हूं,

बस यह कहना था तो इमाम अली रज़ि अल्लाहु ताअला अन्हु ने फ़रमाया “परेशानी खत्म करने के तीन दरजात है”

उसने कहा या अली कौन सी? तो इमाम अली रज़ि अल्लाहु ताअला अन्हु ने फ़रमाया, “अगर तुम अपनी परेशानी को कम करना चाहते हो”, तो “खामोश रहना सीखो”
तुम्हारी खामोशी, तुम्हारी परेशानी को कम करेगी,

और अगर तुम अपनी परेशानी को खत्म करना चाहते हो तो “सब्र करना सीखो” उसका शिकवा ना करो, अल्लाह का कानून है, जो अपनी परेशानी को दरगुजर करता है, सब्र करता है,
तो अल्लाह उसकी परेशानी को खत्म कर देता है,

बात जब यहां तक पहुंची तो वो कहने लगा या अली! तीसरा दर्जा क्या है? तो इमाम अली ने फरमाया ऐ शख्स मैंने अल्लाह के रसूल ﷺ से सुना कि जो अपनी परेशानी को खुशी में तब्दील (बदलना) करना चाहता है, तो वह शुक्र करना सीखे, क्योंकि जो इंसान परेशानी के वक्त अल्लाह का शुक्र करता है, तो अल्लाह उसकी परेशानी खुशी में तब्दील कर देता है,

इंसान के परेशानी का सबसे बड़ा सबब क्या है? In Hindi.

एक मर्तबा एक शख्स हजरत इमाम अली रज़ि अल्लाहु ताअला अन्हु के ख़िदमत में आया, और दस्तेअदब को जोड़कर अर्ज़ करने लगा या अली!
इंसान के परेशानी का सबसे बड़ा सबब क्या है?

बस यह कहना था तो इमाम अली ने फ़रमाया ऐ शख्स इंसान की परेशानी की सिर्फ दो वजूहात है, उसने कहा या अली कौन सी वजह?
तो इमाम अली रज़ि अल्लाहु ताअला अन्हु ने फ़रमाया, “जब इंसान तकदीर से ज्यादा चाहता है तब परेशान होता है” या इंसान वक्त से पहले मांगता है तो तब परेशान होता है,

ऐ शख्स याद रखना मैंने अल्लाह के रसूल ﷺ से सुना, “ना किसी को तकदीर से ज्यादा मिलेगा, ना किसी को वक्त से पहले”

इंसान की अख्तियार में यह है, कि वह अपने फैसले सही करें, और मेहनत के साथ अपनी मकसद को देखें, और यह यकीन अपने वजूद में पैदा करें,
के जिस तरह बचपन में मेरी हर छोटी से छोटी खुशी का मेरी मां ख्याल रखा करती थी,
वैसे ही मेरा अल्लाह 70 मां से ज्यादा मुझसे प्यार करता है, वह मेरी मेहनत और मेरी खुशी को जरूर मंजिल देगा, अल्लाह के फज़लों करम से इंसान का यह यकीन ही, इंसान का मंजिल बन जाएगा,

यह लेख अच्छा लगा तो लाइक शेयर कमेंट जरुर करें, और अपने दोस्तों के साथ शेयर भी करें.

यह भी पढ़ें:-कामयाबी और कामरानी इज्जत और शोहरत मुझसे कोसों दूर है|success|Fame in hindi.