Sabq amoz kahani एक शराबी की कहानी लोगों ने उसके साथ क्या किया in hindi

5

Sabq amoz kahani एक शराबी की कहानी लोगों ने उसके साथ क्या किया in hindi.

एक शहर में एक रहेम दिल बादशाह रहता था. उसकी आदत थी कि रोज लिबास बदलकर शहर की गलियों में फिरता था ताकि वह देखें कोई भूखा तो नहीं. कोई परेशान तो नहीं.
एक मर्तबा वैसे ही गलियों में घूम रहा था कि उसने देखा एक मरा हुआ इंसान जमीन पर पड़ा है, सब उसका तमाशा देख रहे हैं लेकिन कोई उसके करीब नहीं जाता, उस बादशाह ने पूछा जो सादा लिबास पहने हुआ था,ऐ अल्लाह के बंदों ये मर गया है, क्या तुम इसे नहीं पहचानते हैं, लोगों ने कहा पहचानते तभी तो करीब नहीं जाते, यह शराबी था यह ज़िना करता था इसके लाश को हाथ लगाना भी पाप है.
उस बादशाह ने कहा हैरत है, गुनाह का हिसाब तो अल्लाह करेगा उठाओ इसको इसका घर किसी ने देखा है, किसी ने कहा हां हां हमने देखा है उस लाश को उठा कर उसके घर गए,
उसके घर में उसकी बीवी थी उसकी बीवी ने जैसी अपनी सोहर की लाश देखी ज़ारो कतार रोने लगी वो रो रो कर कहने लगी मैंने पूरी जिंदगी में ऐसा नेक इंसान, ऐसा अज़ीम इंसान नहीं देखा.
उस बादशाह ने कहा क्या तुम्हारा शोहर नेक था? दुनिया वाले तो कह रहे हैं वह शराबी और ज़ानी था.
वह औरत कहने लगी मेरा सोहर सुबह से लेकर शाम तक कमाता था और जब रात होती थी तो वह शराब खाने जा कर शराब लेता था और उस शराब को गंदे नाली में फेंक देता था,और कहता था मैंने मुसलमानों के कंधे से, नौजवानों के कंधे से थोड़ा सा गुनाह कम कर दिया.
और फिर जहां औरतें अपना जिस्म बेचती है वहां जाता था और एक औरत को एक रात की उजरत देकर और यह कह कर वापस आ जाता था कि आज रात के लिए तू अपना दरवाजा बंद कर ले ताकि कोई इंसान तुम्हारे पास गुनाह के लिए ना आए, और घर आकर कहता था मैंने थोड़ा सा बोझ नौजवानों के कंधे से कम कर दिया.
मैं हमेशा कहती थी आपकी यह नकी की कोई नहीं देख रहा और आप जब मरेंगे तो यही दुनिया वाले आपको शराबी और ज़ानी कह कर आप की लाश तक नहीं उठाएंगे.
लेकिन मेरा सोहर मुस्कुरा कर कहता था मुझे अल्लाह पर यकीन है देखना मेरा जनाजा वक्त का बादशाह उठाएगा और आलिम फक्र से मेरे जनाजे की नमाज पढ़ाएंगे, और पूरा शहर मेरे कशीदे गाएगा, यह सुनकर बादशाह रोने लगा और फक्र से उस शख्स का जनाज़ा पढ़ाया, और उसके जनाजे में उलमा ए दिन मोतबर, मुफक्किर, दुआ करने लगें.
इमाम अली रज़ि अल्लाहु ताअला अन्हु ने फ़रमाया किसी की बुराई को बगैर तस्दीक किए, बुरा कहने वाला अल्लाह को पसंद नहीं, चाहे वह कितना ही बड़ा आबीद, मुफ़क्कीर,मुत्तक़़ी हो.
लाइक शेयर कमेंट जरुर करें. अपने दोस्तों के साथ शेयर भी करें.
यह भी पढ़ें:-Sabaq Amoz kahani|aulad ki tabiyat in hindi सबक अमोज कहानी औलाद की तरबियत.

5 COMMENTS

  1. Doees your site have a contact page? I’m having a tough time locating it but, I’d like to shoot
    you an e-mail. I’ve got some recommendations for your blog
    you migt be interested in hearing. Either way, great site and I look forward to seeing it grow over
    time.

  2. I know this if off topic but I’m lookkng into starting my own weblog and was wondering what all is required to get setup?
    I’m asssuming having a bog like yours would cost a pretty penny?
    I’m not very internet smart so I’mnot 100% certain. Any suggestions or advice
    would be greaty appreciated. Many thanks