Hindi Kahani

The story of the Panchatantra in hindi

पंचतंत्र की कहानी मूर्ख घोड़ा

बहुत समय पहले किसी जंगल में एक सुल्तान नाम का घोड़ा रहता था सुल्तान को घास खाना बहुत अच्छा लगता था वह जहां रहता था वहां बहुत हरी भरी घास थी वह घास बहुत ही स्वादिष्ट और नशीली थी.

सुल्तान वे घास बहुत चाव से खाता था सुल्तान की जिंदगी बहुत चैन से गुजर रही थी कि एक दिन उसी जंगल में एक विशाल हाथी आ गया हाथी घूमता हुआ उस जगह पर पहुंचा जहां सुल्तान घास चरता था.

इतने सारे घास देकर हाथी बोला अरे वाह इतनी सारी घास मैंने बहुत दिनों से पेट भर के नहीं खाया,आज इसे खाने में बहुत मजा आएगा, हाथी सुल्तान के घास चरने लग जाता है.

हाथी को घास खाने में बहुत मजा आता है हाथी को घास खाता देखकर सुल्तान बहुत दुखी होता है और कहता है यह घास मेरा भोजन है न जाने यह हाथी कहां से आ गया.

हाथी को यह जगह बहुत पसंद आ गया, हाथी को जगह पर कब्जा करता देख सुल्तान सोचने लगा यह थी तो यहां से जाने का नाम ही नहीं ले रहा, आखिर मैे ऐसा क्या करूं जो यह यहां से चला जाए.

सुल्तान हाथी को भगाने की तरकीब सोचने लगता है, और कहता शेर हाथी का बहुत बड़ा शत्रु होता है अगर मै शेर का मदद लूं तो हाथी को यहां से भगाया जा सकता है.
सुल्तान हाथी को भगाने के लिए शेर से मदद मांगने के बारे में सोचता है.

फिर सोचता है नहीं नहीं अगर मैं शेर की मदद लेता हूं तो कहीं ऐसा ना हो कि शेर मुझे ही मार कर खा जाए शेर की मदद मैं नहीं ले सकता.

सुल्तान फिर इंसान की सहायता लेने के बारे में सोचता है क्यों न मैं किसी इंसान की मदद लूं! इंसान भी मेरी सहायता कर सकता है ऐसा सोचकर सुल्तान जंगल के सीमा पर किसी इंसान की मदद लेने के लिए गया.

सीमा पर सुल्तान को एक आदमी मिला शक्तिमान ने उस आदमी को हाथी के बारे में बताया और कहा वे हाथी मेरे सारे घास खराब कर रहा है, क्या तुम मेरी हाथी को भगाने में सहायता करोगे.

आदमी सुल्तान घोड़े की बात सुनकर थोड़ा सोचता है और जवाब देता है मैं उस हाथी को मारकर तुम्हारी मदद कर सकता हूं.
लेकिन ऐसा करने के लिए मुझे तुम्हारा भी सहयोग चाहिए.

सुल्तान यह सुनकर बहुत खुश होता है और आदमी से पूछता है मैं तुम्हारी किस तरह से मदद कर सकता हूं.

हाथी को मारने के लिए मुझे तुम्हारी पीठ पर बैठना होगा अगर अपनी जान बचाने के लिए हाथी भागा तो मुझे उसका पीछा करना पड़ेगा. तब मुझे तुम्हारी जरूरत पड़ेगी.

सुल्तान आदमी की बात समझ कर कहता है ठीक है अगर तुम हाथी को मार दोगे तो जो तुम कहोगे वह मैं करने के लिए तैयार हूं.

पंचतंत्र की कहानी मूर्ख घोड़ा.

आदमी सुल्तान की सवारी करने के लिए उसके पीठ पर जीन बनता है और मुंह में लगाम डाल देता है फिर वे हाथ में भाला लिए सुल्तान पर सवार हो जाता है.

आदमी को सुल्तान घोड़े की सवारी करने में बहुत मजा आता है और थोड़ी ही देर में वह हाथी के पास पहुंच जाते हैं हाथी घोड़े पर बैठा आदमी को देखकर सोच में पड़ जाता है.

इससे पहले हाथी कुछ कर पाता आदमी भाला फेंकता है और वह हाथी को जाकर लगता है हाथी गिर पड़ता है और कुछ ही देर में मर जाता है.

सुल्तान घोड़ा हाथी को मरते ही बहुत खुश होता है और आदमी से कहता? है हाथी को मारकर मेरा घास बचाने के लिए मैं तुम्हारा बहुत धन्यवाद करता हूं.

तुम नीचे उतर जाओ और यह जीन और लगाम निकाल कर मुझे मुक्त कर दो.

यह सुनकर आदमी बहुत जोर जोर से हंसता है और कहता है मैं तुम्हें मूर्ख दिखाई देता हूं जो जीन और लगान उतार लूंगा तुम आजाद होने की ख्वाहिश हमेशा के लिए छोड़ दो.

अब से तुम मेरे गुलाम हो और हमेशा मेरा काम करोगे उस दिन से सुल्तान घोड़ा आदमी की गुलामी करने लग जाता है और इंसान पर भरोसा करने का नतीजा उसे बहुत भारी पड़ता है.

दोस्तों इस कहानी से हमें यह शिक्षा मिलती है कि बिना सोचे-समझे हमें किसी पर विश्वास नहीं करना चाहिए.

यह लेख अच्छा लगा तो लाइक शेयर कमेंट जरूर करें,और अपने दोस्तों के साथ शेयर भी करे.

Read it: Interesting story of turtle and vulture in hindi.

Related Articles

2 Comments

  1. autolike, Autoliker, auto like, Facebook Autoliker, Facebook Auto Liker, Auto Like, Working Auto Liker, Autoliker Facebook, Increase Facebook Likes, Auto Liker, Facebook Liker, Fb Autoliker, auto liker, facebook auto liker, Status Liker, Photo Auto Liker, Photo Liker, Autoliker, Status Auto Liker, autoliker

  2. You will give away comparable to an e-book or hold a competition. Always stay on topic and try not to ramble on. First and foremost Do not place ‘image only’ or banner ads on your
    web pages.

Back to top button
Close
Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker
Close Bitnami banner
Bitnami